Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 1 min read

ये किस धर्म के लोग हैं

ये किस धर्म के लोग है, बुरे कर्म जो करते हैं।
नहीं डरते जो ईश्वर से भी, जो पाप ऐसे करते हैं।।
ये किस धर्म के लोग है——————।।

लेते हैं रिश्वत करने को काम, ठगते हैं जो जनता को।
करते हैं चोरी और लूटपाट, डराते हैं जो जनता को।।
नहीं खौफ जिनको कानून का, हत्या ऐसे जो करते हैं।
नहीं डरते जो ईश्वर से भी, पाप ऐसे जो करते हैं।।
ये किस धर्म के लोग है——————-।।

अपशब्दों में बात करते हैं, नहीं इनको माँ-बहिन की।
दुष्कर्म करते हैं नारी से, नहीं इनको शर्म भगवान की।।
बनकर वहशी और जालिम, जुल्म निर्दोषों पे करते हैं।
नहीं डरते जो ईश्वर से भी, पाप ऐसे जो करते हैं।।
ये किस धर्म के लोग है——————।।

जलाते हैं घर और इंसान, बलवें देश में करवाकर।
करते हैं देश को बर्बाद, सौदा वतन का करवाकर।।
छोड़कर धर्म और फर्ज को, गद्दारी देश से करते हैं।
नहीं डरते जो ईश्वर से भी, पाप ऐसे जो करते हैं।।
ये किस धर्म के लोग है—————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 347 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेमदास वसु सुरेखा
....नया मोड़
....नया मोड़
Naushaba Suriya
अलसाई शाम और तुमसे मोहब्बत करने की आज़ादी में खुद को ढूँढना
अलसाई शाम और तुमसे मोहब्बत करने की आज़ादी में खुद को ढूँढना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
प्रशंसा नहीं करते ना देते टिप्पणी जो ,
प्रशंसा नहीं करते ना देते टिप्पणी जो ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जीवन में सफलता छोटी हो या बड़ी
जीवन में सफलता छोटी हो या बड़ी
Dr.Rashmi Mishra
दर-बदर की ठोकरें जिन्को दिखातीं राह हैं
दर-बदर की ठोकरें जिन्को दिखातीं राह हैं
Manoj Mahato
तुलना करके, दु:ख क्यों पाले
तुलना करके, दु:ख क्यों पाले
Dhirendra Singh
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
बदनाम शराब
बदनाम शराब
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
3174.*पूर्णिका*
3174.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विषधर
विषधर
Rajesh
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/ "पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Mental Health
Mental Health
Bidyadhar Mantry
बचपन
बचपन
अनिल "आदर्श"
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
शेखर सिंह
जो घर जारै आपनो
जो घर जारै आपनो
Dr MusafiR BaithA
अजर अमर सतनाम
अजर अमर सतनाम
Dr. Kishan tandon kranti
गये ज़माने की यादें
गये ज़माने की यादें
Shaily
राखी
राखी
Shashi kala vyas
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
"घमंड के प्रतीक पुतले के जलने की सार्थकता तब तक नहीं, जब तक
*प्रणय प्रभात*
*जीता है प्यारा कमल, पुनः तीसरी बार (कुंडलिया)*
*जीता है प्यारा कमल, पुनः तीसरी बार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
इक शाम दे दो. . . .
इक शाम दे दो. . . .
sushil sarna
ज़िंदगी की चाहत में
ज़िंदगी की चाहत में
Dr fauzia Naseem shad
Good morning
Good morning
Neeraj Agarwal
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
Vivek Mishra
" ब्रह्माण्ड की चेतना "
Dr Meenu Poonia
Loading...