Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

ये ऊँचे-ऊँचे पर्वत शिखरें,

ये ऊँचे–ऊँचे पर्वत शिखरें,
इस धरा के होते गर्व सदैव,
अमूल्य धरोहर जग के प्राणियों का,
मानव का विशेष प्राकृत धन है।

ये ऊँचे–ऊँचे पर्वत शिखरें,
बनते रक्षक और बनाते संतुलन हैं,
घने वनों को देते संरक्षण,
औषधियों को सुरक्षित करते हैं।

ये ऊँचे–ऊँचे पर्वत शिखरें,
मानव का बहुमूल्य स्रोत,
पत्थर ,धातु ,बहुमूल्य लकड़ियाँ,
बिन इनके न पनपते हैं।

ये ऊँचे–ऊँचे पर्वत शिखरें,
दुरुपयोग और खनन ना बढ़ाओ,
शीश ना गिराओ इसका धरा पर,
निर्माण हुआ जो सहस्त्र युगों में।

ये ऊँचे–ऊँचे पर्वत शिखरें,
काबू मे रख अपने तू मन को,
ध्वस्त न कर सुन्दर प्राकृति को,
जागो और समझो अर्थ को ।

ये ऊँचे–ऊँचे पर्वत शिखरें,
स्वार्थ अपना इतना ना बढ़ाओ,
जीवन होगा अस्त व्यस्त नहीं तो,
भू मंडल डोलेंगे देंगे कर्मो का फल।

बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

1 Like · 85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
Paras Nath Jha
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
gurudeenverma198
तलास है उस इंसान की जो मेरे अंदर उस वक्त दर्द देख ले जब लोग
तलास है उस इंसान की जो मेरे अंदर उस वक्त दर्द देख ले जब लोग
Rituraj shivem verma
किसी को फर्क भी नही पड़ता
किसी को फर्क भी नही पड़ता
पूर्वार्थ
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
लगाव
लगाव
Arvina
* मैं बिटिया हूँ *
* मैं बिटिया हूँ *
Mukta Rashmi
स्टेटस
स्टेटस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
2734. *पूर्णिका*
2734. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी निगाहों मे किन गुहानों के निशां खोजते हों,
मेरी निगाहों मे किन गुहानों के निशां खोजते हों,
Vishal babu (vishu)
गुजार दिया जो वक्त
गुजार दिया जो वक्त
Sangeeta Beniwal
■ तंत्र का षड्यंत्र : भय फैलाना और लाभ उठाना।
■ तंत्र का षड्यंत्र : भय फैलाना और लाभ उठाना।
*Author प्रणय प्रभात*
ভালো উপদেশ
ভালো উপদেশ
Arghyadeep Chakraborty
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
दिन को रात और रात को दिन बना देंगे।
Phool gufran
दशहरा
दशहरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
Indu Singh
दरख़्त और व्यक्तित्व
दरख़्त और व्यक्तित्व
Dr Parveen Thakur
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
Ravi Prakash
वज़्न -- 2122 2122 212 अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन बह्र का नाम - बह्रे रमल मुसद्दस महज़ूफ
वज़्न -- 2122 2122 212 अर्कान - फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन बह्र का नाम - बह्रे रमल मुसद्दस महज़ूफ
Neelam Sharma
अभी और कभी
अभी और कभी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जाने कैसे आँख की,
जाने कैसे आँख की,
sushil sarna
I don't care for either person like or dislikes me
I don't care for either person like or dislikes me
Ankita Patel
खुद से ज्यादा अहमियत
खुद से ज्यादा अहमियत
Dr Manju Saini
बुद्धिमान बनो
बुद्धिमान बनो
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
वो सांझ
वो सांझ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
वजह ऐसी बन जाऊ
वजह ऐसी बन जाऊ
Basant Bhagawan Roy
Loading...