Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।

ये आकांक्षाओं की श्रृंखला, जीवन को भ्रम में उलझाती है,
होठों की हंसीं चुराकर, आँखों में अश्रु भर जाती है।
पथ की ओर अग्रसर पथिक, की राह को धुंधलाती है,
मंजिलों की छवि दिखाकर, नए मोड़ों में भटकाती है।
बादलों का आवरण छाता है, पर बारिश आँखें चुराती है,
मृगतृष्णा में भटक रहे मृग को, उसकी नाभि छल जाती है।
दीपक की वो लौ जो, अंधेरों में रौशनी दिखाती है,
कतरा-कतरा कर अपनी बाती को हीं, ये भी राख बनाती है।
एक पूरी होती नहीं, ये नए सपनों के अम्बार लगाती है,
इस दौड़ में जीवन कब कट जाए, इस एहसास को भी ये सुलाती है।
डूबती-उतरती साँसों को, नयी कश्ती से ये मिलवाती है,
नए तटों की राह दिखाकर, किनारों पर नाव डुबाती है।
चाहत की बंद खिड़कियों से, भविष्य के घर को सामने लाती है,
फिर एक क्षण में रेत बना, उस घर को लहरों के हवाले कर आती है।
गिरते-गिराते हर दौड़ का धावक, ये हमें बनाती है,
अनुभवों से झोली भरती है, और यही सीख दुनिया में जीना सिखाती है।

2 Likes · 99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
आलता-महावर
आलता-महावर
Pakhi Jain
मत बनो उल्लू
मत बनो उल्लू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अक्सर मां-बाप
अक्सर मां-बाप
Indu Singh
23/175.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/175.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“फेसबूक का व्यक्तित्व”
“फेसबूक का व्यक्तित्व”
DrLakshman Jha Parimal
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
डी. के. निवातिया
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिन्दा रहे यह प्यार- सौहार्द, अपने हिंदुस्तान में
जिन्दा रहे यह प्यार- सौहार्द, अपने हिंदुस्तान में
gurudeenverma198
ख्वाब
ख्वाब
Dinesh Kumar Gangwar
Learn self-compassion
Learn self-compassion
पूर्वार्थ
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
सांवले मोहन को मेरे वो मोहन, देख लें ना इक दफ़ा
The_dk_poetry
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
Monika Verma
शब्द
शब्द
Sangeeta Beniwal
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
Shweta Soni
* काव्य रचना *
* काव्य रचना *
surenderpal vaidya
टेढ़ी ऊंगली
टेढ़ी ऊंगली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माई बेस्ट फ्रैंड ''रौनक''
माई बेस्ट फ्रैंड ''रौनक''
लक्की सिंह चौहान
*** भाग्यविधाता ***
*** भाग्यविधाता ***
Chunnu Lal Gupta
#सवाल-
#सवाल-
*Author प्रणय प्रभात*
कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
कैसे यह अनुबंध हैं, कैसे यह संबंध ।
sushil sarna
*
*"परछाई"*
Shashi kala vyas
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
मिल जाएँगे कई सिकंदर कलंदर इस ज़माने में मगर,
मिल जाएँगे कई सिकंदर कलंदर इस ज़माने में मगर,
शेखर सिंह
कभी उगता हुआ तारा रोशनी बांट लेता है
कभी उगता हुआ तारा रोशनी बांट लेता है
कवि दीपक बवेजा
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*मॉं : शत-शत प्रणाम*
*मॉं : शत-शत प्रणाम*
Ravi Prakash
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Surinder blackpen
समय के खेल में
समय के खेल में
Dr. Mulla Adam Ali
Loading...