Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2023 · 1 min read

“यूं तो फेहरिश्त में हैं

“यूं तो फेहरिश्त में हैं
नाम हज़ारों लेकिन,
उंगलियां एक उसी नाम पे
रुक जाती हैं।।

★ प्रणय प्रभात★

1 Like · 252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अनादि
अनादि
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
इल्म
इल्म
Bodhisatva kastooriya
जीवन
जीवन
sushil sarna
सच तो यही हैं।
सच तो यही हैं।
Neeraj Agarwal
"मयकश"
Dr. Kishan tandon kranti
अक्ल के दुश्मन
अक्ल के दुश्मन
Shekhar Chandra Mitra
भले नफ़रत हो पर हम प्यार का मौसम समझते हैं.
भले नफ़रत हो पर हम प्यार का मौसम समझते हैं.
Slok maurya "umang"
*दर्शन शुल्क*
*दर्शन शुल्क*
Dhirendra Singh
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
बुद्ध पूर्णिमा शुभकामनाएं - बुद्ध के अनमोल विचार
बुद्ध पूर्णिमा शुभकामनाएं - बुद्ध के अनमोल विचार
Raju Gajbhiye
"हर दिन कुछ नया सीखें ,
Mukul Koushik
गिरोहबंदी ...
गिरोहबंदी ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एक ऐसा दोस्त
एक ऐसा दोस्त
Vandna Thakur
हर जमीं का आसमां होता है।
हर जमीं का आसमां होता है।
Taj Mohammad
उलझनें
उलझनें
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
नवरात्रि के इस पवित्र त्योहार में,
Sahil Ahmad
मैं और वो
मैं और वो
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
Vishal babu (vishu)
पैसा आपकी हैसियत बदल सकता है
पैसा आपकी हैसियत बदल सकता है
शेखर सिंह
इस बार
इस बार "अमेठी" नहीं "रायबरैली" में बनेगी "बरेली की बर्फी।"
*प्रणय प्रभात*
*अकड़ू-बकड़ू थे दो डाकू (बाल कविता )*
*अकड़ू-बकड़ू थे दो डाकू (बाल कविता )*
Ravi Prakash
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
घणो लागे मनैं प्यारो, सखी यो सासरो मारो
घणो लागे मनैं प्यारो, सखी यो सासरो मारो
gurudeenverma198
"रंग भले ही स्याह हो" मेरी पंक्तियों का - अपने रंग तो तुम घोलते हो जब पढ़ते हो
Atul "Krishn"
मुद्दा मंदिर का
मुद्दा मंदिर का
जय लगन कुमार हैप्पी
फर्क नही पड़ता है
फर्क नही पड़ता है
ruby kumari
जिंदगी,
जिंदगी,
हिमांशु Kulshrestha
तुम ही मेरी जाँ हो
तुम ही मेरी जाँ हो
SURYA PRAKASH SHARMA
दिसम्बर की सर्द शाम में
दिसम्बर की सर्द शाम में
Dr fauzia Naseem shad
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
पिया की प्रतीक्षा में जगती रही
Ram Krishan Rastogi
Loading...