Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2024 · 1 min read

यूँ ही नही लुभाता,

यूँ ही नही लुभाता,
कोई किसी को,
कोई बात तो है तुझमे,
जो मेरे दिल को भा गई है।

हिमांशु Kulshrestha

53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम्हारे आगे, गुलाब कम है
तुम्हारे आगे, गुलाब कम है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हनुमान जयंती
हनुमान जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
Vishal babu (vishu)
हम गांव वाले है जनाब...
हम गांव वाले है जनाब...
AMRESH KUMAR VERMA
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आंखों को मल गए
आंखों को मल गए
Dr fauzia Naseem shad
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
#है_व्यथित_मन_जानने_को.........!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ऐसे दर्शन सदा मिले
ऐसे दर्शन सदा मिले
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
*
*"आज फिर जरूरत है तेरी"*
Shashi kala vyas
अक्षर ज्ञान नहीं है बल्कि उस अक्षर का को सही जगह पर उपयोग कर
अक्षर ज्ञान नहीं है बल्कि उस अक्षर का को सही जगह पर उपयोग कर
Rj Anand Prajapati
विलोमात्मक प्रभाव~
विलोमात्मक प्रभाव~
दिनेश एल० "जैहिंद"
*व्यर्थ में केवल नहीं, मशहूर होना चाहिए【गीतिका】*
*व्यर्थ में केवल नहीं, मशहूर होना चाहिए【गीतिका】*
Ravi Prakash
कैसी है ये जिंदगी
कैसी है ये जिंदगी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नेता या अभिनेता
नेता या अभिनेता
Shekhar Chandra Mitra
बाल कविता: चूहे की शादी
बाल कविता: चूहे की शादी
Rajesh Kumar Arjun
सागर की हिलोरे
सागर की हिलोरे
SATPAL CHAUHAN
है वही, बस गुमराह हो गया है…
है वही, बस गुमराह हो गया है…
Anand Kumar
खोज करो तुम मन के अंदर
खोज करो तुम मन के अंदर
Buddha Prakash
भारत माता के सच्चे सपूत
भारत माता के सच्चे सपूत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
#आज_का_मुक्तक
#आज_का_मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
पग न अब पीछे मुड़ेंगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"मन भी तो पंछी ठहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
खंडकाव्य
खंडकाव्य
Suryakant Dwivedi
"ज्ञ " से ज्ञानी हम बन जाते हैं
Ghanshyam Poddar
क्यों नहीं देती हो तुम, साफ जवाब मुझको
क्यों नहीं देती हो तुम, साफ जवाब मुझको
gurudeenverma198
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
Dr Manju Saini
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
2971.*पूर्णिका*
2971.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
साहित्य सृजन .....
साहित्य सृजन .....
Awadhesh Kumar Singh
Loading...