Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2016 · 1 min read

युवती की अभिलाषा

अभिलाषा (भाग एक )

अभिलाषा (भाग एक )

@–युवती की अभिलाषा—@

हे प्रभु मुझे ऐसा वर दे !
हाव भाव से मनमोहन हो
स्वभाव से शांत,सदा मौन रहे
मन माफिक हर काम कर दे
हे प्रभु मुझे ऐसा वर दे !!

कमाई से टाटा, अंबानी हो
पास हो जिसके काफी पैसा
राँझा-मजनूँ बन कर प्यार करे
इशारे पर नाचे प्रभु देवा जैसा
देवो में वो कामदेव लगे
हे प्रभु मुझे ऐसा वर दे !

अमिताभ जैसा हीरो हो
जो बुढ़ापे में भी जवाँ लगे
रजनीकांत की स्टाइल मारे
खली जैस ताकत रख कर
जो सबकी छुट्टी कर दे
हे प्रभु मुझे ऐसा वर दे !!

मोदी जैसी मीठी बाते करे
और ओबामा सा फेमस हो
राजीव कपूर सा खाना बना सके
घर के जो सारे काम कर दे
हे प्रभु मुझे ऐसा वर दे !!

@———-डी. के. निवातियाँ !!

Language: Hindi
4 Comments · 282 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डी. के. निवातिया
View all
You may also like:
जब कोई बात समझ में ना आए तो वक्त हालात पर ही छोड़ दो ,कुछ सम
जब कोई बात समझ में ना आए तो वक्त हालात पर ही छोड़ दो ,कुछ सम
Shashi kala vyas
मानकर जिसको अपनी खुशी
मानकर जिसको अपनी खुशी
gurudeenverma198
कैनवास
कैनवास
Mamta Rani
*खुद को  खुदा  समझते लोग हैँ*
*खुद को खुदा समझते लोग हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मोहि मन भावै, स्नेह की बोली,
मोहि मन भावै, स्नेह की बोली,
राकेश चौरसिया
Writing Challenge- सौंदर्य (Beauty)
Writing Challenge- सौंदर्य (Beauty)
Sahityapedia
Touch the Earth,
Touch the Earth,
Dhriti Mishra
जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। न सुख, न दुःख,न नौकरी, न रिश
जीवन में कुछ भी स्थायी नहीं है। न सुख, न दुःख,न नौकरी, न रिश
पूर्वार्थ
"ये कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम निवेश है-2❤️
प्रेम निवेश है-2❤️
Rohit yadav
School ke bacho ko dusre shehar Matt bhejo
School ke bacho ko dusre shehar Matt bhejo
Tushar Jagawat
मूर्दों का देश
मूर्दों का देश
Shekhar Chandra Mitra
बंधन यह अनुराग का
बंधन यह अनुराग का
Om Prakash Nautiyal
उज्ज्वल भविष्य हैं
उज्ज्वल भविष्य हैं
TARAN VERMA
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
यह कैसा है धर्म युद्ध है केशव
VINOD CHAUHAN
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
*त्यौहार हिन्द के(बाल कविता)*
*त्यौहार हिन्द के(बाल कविता)*
Ravi Prakash
खुर्पेची
खुर्पेची
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खेल सारा वक्त का है _
खेल सारा वक्त का है _
Rajesh vyas
■ बात सब पर लागू। नेताओं पर भी।।
■ बात सब पर लागू। नेताओं पर भी।।
*Author प्रणय प्रभात*
स्वार्थ से परे !!
स्वार्थ से परे !!
Seema gupta,Alwar
💐प्रेम कौतुक-271💐
💐प्रेम कौतुक-271💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हे!शक्ति की देवी दुर्गे माँ,
हे!शक्ति की देवी दुर्गे माँ,
Satish Srijan
शुम प्रभात मित्रो !
शुम प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
जीता जग सारा मैंने
जीता जग सारा मैंने
Suryakant Dwivedi
मेरे दिल के मन मंदिर में , आओ साईं बस जाओ मेरे साईं
मेरे दिल के मन मंदिर में , आओ साईं बस जाओ मेरे साईं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
★भारतीय किसान★
★भारतीय किसान★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मंटू और चिड़ियाँ
मंटू और चिड़ियाँ
SHAMA PARVEEN
Loading...