Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Apr 2022 · 2 min read

युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]

माना सब युद्ध खत्म हो जाते हैं ,
यह युद्ध भी खत्म हो जाएगा!
सब हाथ मिला लेंगे और
समझोता भी हो जाएगा !

गले लगाकर सब अपनी
तस्वीरे भी खिचवाँयेगें ,
चेहरे पर झूठी हँसी दिखाकर
सब मिलकर मुस्कुरायेगें!

पर क्या मन में जो चुभन रह गई,
क्या उसकी टीस कभी भी
जीवन भर मिट पाएगा !
जो दर्द छोड़ जाता है यह युद्ध ,
क्या कोई मरहम उसके
जख्म को भर पाएगा।

जो शहर उजड़ गया है,
क्या कभी पहले जैसा
वह बस पाएगा ,
क्या वह अपने दर्द को
कभी भूला पाएगा!

जिन लोगों ने अपनों को खोया है,
क्या कोई भी समझौता उनके ,
अपनों को लौटा पाएगा!
उसके मन में यह प्रश्न तो
हमेशा बना रहेगा!

यह समझौता पहले भी तो
हो सकता था!
इस युद्ध को रोका भी
तो जा सकता था,
मानवता की रक्षा के लिए
युद्ध के बिना भी तो हल
निकाला जा सकता था!

जिसकी दुनियाँ उजड़ गई
जिसका घर हो गया बरबाद
क्या कोई समझौता उसके
मन के दर्द को मिटा पाएगा!
वह कभी भी क्या इस समझौते
को दिल से अपना पाएगा!

बारूदी के इस ढेर में जो
इंसानियत मर गई ,
क्या कोई समझौता उस
इंसानियत को जिंदा कर पाएगा!

जो हैवान बन गए थे इस युद्ध में,
क्या इंसान बनकर वह,
खुद को माफ कर पाएगे!
क्या खून से सने हाथों से
वह कभी खा पाएगा!

होते है कई युद्ध,
खत्म भी हो जाते हैं,
पर अगले किसी युद्ध के लिए,
वह बीज छोड़ जाते है,

कहाँ कभी किसी युद्ध ने आजतक ,
किसी प्रश्न का उत्तर हल किया है !
उसने सिर्फ और सिर्फ प्रश्न
ही तो खड़ा किया है!

~अनामिका

Language: Hindi
4 Likes · 1 Comment · 638 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🌺🌹🌸💮🌼🌺🌹🌸💮🏵️🌺🌹🌸💮🏵️
🌺🌹🌸💮🌼🌺🌹🌸💮🏵️🌺🌹🌸💮🏵️
Neelofar Khan
*धन का नशा रूप का जादू, हुई शाम ढल जाता है (हिंदी गजल)*
*धन का नशा रूप का जादू, हुई शाम ढल जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
नूरफातिमा खातून नूरी
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उदास आँखों से जिस का रस्ता मैं एक मुद्दत से तक रहा था
उदास आँखों से जिस का रस्ता मैं एक मुद्दत से तक रहा था
Aadarsh Dubey
प्रकाश पर्व
प्रकाश पर्व
Shashi kala vyas
ऐसे हैं हमारे राम
ऐसे हैं हमारे राम
Shekhar Chandra Mitra
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
2477.पूर्णिका
2477.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बारिश के लिए
बारिश के लिए
Srishty Bansal
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी
Swami Ganganiya
फीका त्योहार !
फीका त्योहार !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
एक भ्रम जाल है
एक भ्रम जाल है
Atul "Krishn"
फितरत
फितरत
Mamta Rani
एक झलक
एक झलक
Dr. Upasana Pandey
नव वर्ष
नव वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सुविचार..
सुविचार..
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"फितूर"
Dr. Kishan tandon kranti
इन रावणों को कौन मारेगा?
इन रावणों को कौन मारेगा?
कवि रमेशराज
आज की शाम।
आज की शाम।
Dr. Jitendra Kumar
गिरगिट रंग बदलने लगे हैं
गिरगिट रंग बदलने लगे हैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"" *मैंने सोचा इश्क करूँ* ""
सुनीलानंद महंत
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
सत्य कुमार प्रेमी
बेख़बर
बेख़बर
Shyam Sundar Subramanian
सब्र और सहनशीलता कोई कमजोरी नहीं होती,ये तो अंदरूनी ताकत है,
सब्र और सहनशीलता कोई कमजोरी नहीं होती,ये तो अंदरूनी ताकत है,
पूर्वार्थ
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
Rj Anand Prajapati
करती रही बातें
करती रही बातें
sushil sarna
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
ruby kumari
फूल कुदरत का उपहार
फूल कुदरत का उपहार
Harish Chandra Pande
Loading...