Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

युक्रेन और रूस ; संगीत

युक्रेन की सर्दी और रूस की गर्मी,
युद्ध का संगीत बजता है घनी।
ध्वनि में तनाव और संघर्ष की लहर,
सुरों और तालों में छिड़ रही है घेर।
प्

उच्च ध्वनि से गुजरती है हवाएं,
रोमांच से भरी है धुन साथ लाएं।
सुरमय ताल बजती है युद्ध की भूमि,
कठिनाईयों से भरी है उसकी सिमटी।

वीरता की गाथा सुनाता है संगीत,
अपार उम्मीदों को जगाता है जीत।
मुखड़े पर मुस्कान, हौसला और साहस,
संघर्ष की जंग में विजय की प्रकाश।

रागों के ज़ोर से धड़कती है धड़कन,
युद्ध की तलवारों की मरम्मत कर जान।
उत्साह की धुन में रंगत भरी है जिंदगी,
समर्पण की आहटों में लिपटी है जिद्दी।

रूस के ध्वनियों में आवाज़ है गहरी,
युक्रेन के संगीत में रंग है नयी।
युद्ध के रंगों में बदलता है संगीत,
उबलती है जीत की लहरों की धारा।

प्यार और शांति की आस बारिश हो,
सुरों की आंधी सब ओर बहारिश हो।
युक्रेन और रूस के युद्ध की चिंतत छिपे,
संगीत की मधुरता जगाए ख्वाबों को छिपे।

युद्ध के संगीत में एकता की झलक,
भाईचारे की राह जगाए संगीत की टहक।
सुर और ताल मिलकर बजाए विश्ववंद्य,
युक्रेन और रूस की अमर संगीत कविता।

Language: Hindi
248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे फितरत में ही नहीं है
मेरे फितरत में ही नहीं है
नेताम आर सी
डॉ अरूण कुमार शास्त्री एक  अबोध बालक 😂😂😂
डॉ अरूण कुमार शास्त्री एक अबोध बालक 😂😂😂
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िंदगी तेरी किताब में
ज़िंदगी तेरी किताब में
Dr fauzia Naseem shad
दिल से दिल तो टकराया कर
दिल से दिल तो टकराया कर
Ram Krishan Rastogi
ये  कहानी  अधूरी   ही  रह  जायेगी
ये कहानी अधूरी ही रह जायेगी
Yogini kajol Pathak
कृष्ण की फितरत राधा की विरह
कृष्ण की फितरत राधा की विरह
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जो समझदारी से जीता है, वह जीत होती है।
जो समझदारी से जीता है, वह जीत होती है।
Sidhartha Mishra
कुंडलिया छंद विधान ( कुंडलिया छंद में ही )
कुंडलिया छंद विधान ( कुंडलिया छंद में ही )
Subhash Singhai
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
पुस्तकों से प्यार
पुस्तकों से प्यार
surenderpal vaidya
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
ना मसले अदा के होते हैं
ना मसले अदा के होते हैं
Phool gufran
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
यह उँचे लोगो की महफ़िल हैं ।
Ashwini sharma
कुछ ये हाल अरमान ए जिंदगी का
कुछ ये हाल अरमान ए जिंदगी का
शेखर सिंह
क्षणिकाए - व्यंग्य
क्षणिकाए - व्यंग्य
Sandeep Pande
बेगुनाही एक गुनाह
बेगुनाही एक गुनाह
Shekhar Chandra Mitra
मेरी चाहत रही..
मेरी चाहत रही..
हिमांशु Kulshrestha
जब स्वार्थ अदब का कंबल ओढ़ कर आता है तो उसमें प्रेम की गरमाह
जब स्वार्थ अदब का कंबल ओढ़ कर आता है तो उसमें प्रेम की गरमाह
Lokesh Singh
ड़ माने कुछ नहीं
ड़ माने कुछ नहीं
Satish Srijan
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
शेयर
शेयर
rekha mohan
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
किसी का प्यार मिल जाए ज़ुदा दीदार मिल जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
#क्षणिका-
#क्षणिका-
*Author प्रणय प्रभात*
हारिये न हिम्मत तब तक....
हारिये न हिम्मत तब तक....
कृष्ण मलिक अम्बाला
2672.*पूर्णिका*
2672.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
हर इक सैलाब से खुद को बचाकर
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
!! हे लोकतंत्र !!
!! हे लोकतंत्र !!
Akash Yadav
कलियुगी रिश्ते!
कलियुगी रिश्ते!
Saransh Singh 'Priyam'
अनपढ़ व्यक्ति से ज़्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति जातिवाद करता है आ
अनपढ़ व्यक्ति से ज़्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति जातिवाद करता है आ
Anand Kumar
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...