Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

यार ब – नाम – अय्यार

, यार ब- नाम अय्यार
————————————
जब अपनापन हो जाता है ,
मुँह से यार निकल जाता है !
बड़े और छोटे का अंतर –
स्वत: सहज ही मिट जाता है!!

माँ की गोदी में शिशु खेले ,
सहज-सहज सब अंग टटोले !
मौन स्नेह बरसे मन ही मन –
हृदय सिक्त सा हो जाता है !!

मन-भायी निधि यदि मिल जाये,
ऐसा लगे कि कभी न जाये !
मन को लगे यही होना था –
भूत-अद्य-भव चुक जाता है !!

साथी साथ अगर सम हो तो,
बरसातें भी भिगो न पातीं !
गर्मी-सर्दी पास न आये –
जल्द सवेरा हो जाता है !!

निष्ठुर , नींच, निहंग सदा ही ,
चिंता नहीं किसी की करता !
लेकिन वही ,वही शैशव में –
माँ की गोदी सुख पाता है !!

यार शब्द अपभ्र॔श हो गया,
यार शब्द बद्नाम हो गया !
जो”अयार”था बहुत चतुर था-
वह अब यार कहा जाता है!!

अय्यारो॔ से यारी करना ,
बहुत शान समझी जाती थी !
लेकिन अब अय्यार यार का-
नाता गलत कहा जाता है !!

अब यारी का रूपांतर है ,
“क्लोज फ्रेंड”से वो अभिहित है!
युग बदले तो बदल जाय पर-
हर युग मित्र चुना जाता है !!
————————————–
मोलिक चिंतन/स्वरूप दिनकर
आशु कवि
05/11/2023
————————————–

52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
तेवरी का आस्वादन +रमेशराज
कवि रमेशराज
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज्ञान~
ज्ञान~
दिनेश एल० "जैहिंद"
Jaruri to nhi , jo riste dil me ho ,
Jaruri to nhi , jo riste dil me ho ,
Sakshi Tripathi
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
World News
**विकास**
**विकास**
Awadhesh Kumar Singh
मां (संस्मरण)
मां (संस्मरण)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"वरना"
Dr. Kishan tandon kranti
जर्जर है कानून व्यवस्था,
जर्जर है कानून व्यवस्था,
ओनिका सेतिया 'अनु '
देवों की भूमि उत्तराखण्ड
देवों की भूमि उत्तराखण्ड
Ritu Asooja
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
दो पल की खुशी और दो पल का ही गम,
Soniya Goswami
*माता हीराबेन (कुंडलिया)*
*माता हीराबेन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ सवालिया शेर-
■ सवालिया शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
सच का सौदा
सच का सौदा
अरशद रसूल बदायूंनी
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आदमी की गाथा
आदमी की गाथा
कृष्ण मलिक अम्बाला
सुखी को खोजन में जग गुमया, इस जग मे अनिल सुखी मिला नहीं पाये
सुखी को खोजन में जग गुमया, इस जग मे अनिल सुखी मिला नहीं पाये
Anil chobisa
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
Taj Mohammad
मुक्तक- जर-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
मुक्तक- जर-जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
"रिश्ता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कैसे कह दूं मुझे उनसे प्यार नही है
कैसे कह दूं मुझे उनसे प्यार नही है
Ram Krishan Rastogi
चाहती हूँ मैं
चाहती हूँ मैं
Shweta Soni
इस संसार में क्या शुभ है और क्या अशुभ है
इस संसार में क्या शुभ है और क्या अशुभ है
शेखर सिंह
परदेसी की  याद  में, प्रीति निहारे द्वार ।
परदेसी की याद में, प्रीति निहारे द्वार ।
sushil sarna
जिंदगी जीने का सबका अलग सपना
जिंदगी जीने का सबका अलग सपना
कवि दीपक बवेजा
My life's situation
My life's situation
Sukoon
💐प्रेम कौतुक-438💐
💐प्रेम कौतुक-438💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
समय आया है पितृपक्ष का, पुण्य स्मरण कर लें।
surenderpal vaidya
रास्ते में आएंगी रुकावटें बहुत!!
रास्ते में आएंगी रुकावटें बहुत!!
पूर्वार्थ
Loading...