Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2016 · 1 min read

याद में उसकी/मंदीप

याद में उसकी/मंदीप

याद में उसकी कतरा कतरा मर रहा हूँ,
प्यार में उसके लहूँ के आँसू पी रहा हूँ।

आग दिल में प्यार की ऐसी लगी,
उसी आग में आज दहक रहा हूँ।

बुजती नही आग लगी जो सीने में,
महखाने में जाम पर जाम पी रहा हूँ।

लगी “मंदीप” ये कैसी लत प्यार की,
याद में आज उसकी बहक रहा हूँ।

मंदीपसाई

212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी रोज मिलना बेमतलब
किसी रोज मिलना बेमतलब
Amit Pathak
जीवन और मृत्यु के मध्य, क्या उच्च ये सम्बन्ध है।
जीवन और मृत्यु के मध्य, क्या उच्च ये सम्बन्ध है।
Manisha Manjari
सम्मान गुरु का कीजिए
सम्मान गुरु का कीजिए
Harminder Kaur
प्रकृति का उपहार- इंद्रधनुष
प्रकृति का उपहार- इंद्रधनुष
Shyam Sundar Subramanian
हादसे पैदा कर
हादसे पैदा कर
Shekhar Chandra Mitra
23/74.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/74.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रंगों की दुनिया में सब से
रंगों की दुनिया में सब से
shabina. Naaz
किसी भी सफल और असफल व्यक्ति में मुख्य अन्तर ज्ञान और ताकत का
किसी भी सफल और असफल व्यक्ति में मुख्य अन्तर ज्ञान और ताकत का
Paras Nath Jha
रक्षाबंधन (कुंडलिया)
रक्षाबंधन (कुंडलिया)
दुष्यन्त 'बाबा'
माचिस
माचिस
जय लगन कुमार हैप्पी
🌹मां ममता की पोटली
🌹मां ममता की पोटली
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"ढोंग-पसंद रियासत
*Author प्रणय प्रभात*
पंचैती
पंचैती
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
घूंटती नारी काल पर भारी ?
घूंटती नारी काल पर भारी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कवि का दिल बंजारा है
कवि का दिल बंजारा है
नूरफातिमा खातून नूरी
किसकी कश्ती किसका किनारा
किसकी कश्ती किसका किनारा
डॉ० रोहित कौशिक
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
सोशल मीडिया
सोशल मीडिया
Surinder blackpen
💐Prodigy love-2💐
💐Prodigy love-2💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
सर्द ठिठुरन आँगन से,बैठक में पैर जमाने लगी।
पूर्वार्थ
अक्सर आकर दस्तक देती
अक्सर आकर दस्तक देती
Satish Srijan
*कौन लड़ पाया समय से, हार सब जाते रहे (वैराग्य गीत)*
*कौन लड़ पाया समय से, हार सब जाते रहे (वैराग्य गीत)*
Ravi Prakash
* निशाने आपके *
* निशाने आपके *
surenderpal vaidya
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जन मन में हो उत्कट चाह
जन मन में हो उत्कट चाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"आज की रात "
Pushpraj Anant
Writing Challenge- कृतज्ञता (Gratitude)
Writing Challenge- कृतज्ञता (Gratitude)
Sahityapedia
किसान
किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
Loading...