Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2024 · 1 min read

याद मीरा को रही बस श्याम की

1)धड़कनों में ज़लज़ले भी ख़ूब थे
उन दिनों के रतजगे भी ख़ूब थे

2)याद मीरा को रही बस श्याम की
बालपन के फलसफ़े भी ख़ूब थे

3)पी गई विष को भी बस इक घूंट में
प्रीत के धागे बंधे भी ख़ूब थे

4)भीड़ ने देखो जला दी बस्तियां
पास उनके असलहे भी ख़ूब थे

5)मर गई और मिट गई वो दरबदर
घाव ज़ुल्मों के हरे भी ख़ूब थे

6)आओ फिर उस दौर में वापस चलें
ग़म अगर थे क़हक़हे भी ख़ूब थे

7)एक टक तकती रही उसकी नज़र
मेरी जां के हौसले भी ख़ूब थे

8)मेरे घर के पास तक आए नहीं
और मुझे वो देखते भी ख़ूब थे

9) मंतशा मैं क्या दिखाती दर्द ओ ग़म
ज़ख़्म दिल के तो हरे भी ख़ूब थे

🌹मोनिका मंतशा🌹

Language: Hindi
2 Likes · 34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वीकेंड
वीकेंड
Mukesh Kumar Sonkar
तारीफ किसकी करूं
तारीफ किसकी करूं
कवि दीपक बवेजा
खींचातानी  कर   रहे, सारे  नेता लोग
खींचातानी कर रहे, सारे नेता लोग
Dr Archana Gupta
10) पूछा फूल से..
10) पूछा फूल से..
पूनम झा 'प्रथमा'
दीदार
दीदार
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
3064.*पूर्णिका*
3064.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
Phool gufran
मानवता
मानवता
Rahul Singh
विषय मेरा आदर्श शिक्षक
विषय मेरा आदर्श शिक्षक
कार्तिक नितिन शर्मा
"जुबां पर"
Dr. Kishan tandon kranti
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
एहसास
एहसास
भरत कुमार सोलंकी
वोट की खातिर पखारें कदम
वोट की खातिर पखारें कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
* आस्था *
* आस्था *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
Anis Shah
मन हमेशा एक यात्रा में रहा
मन हमेशा एक यात्रा में रहा
Rituraj shivem verma
गुम है सरकारी बजट,
गुम है सरकारी बजट,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अनारकली भी मिले और तख़्त भी,
अनारकली भी मिले और तख़्त भी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दिल में
दिल में
Dr fauzia Naseem shad
बड़ी कथाएँ ( लघुकथा संग्रह) समीक्षा
बड़ी कथाएँ ( लघुकथा संग्रह) समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्राचीन दोस्त- निंब
प्राचीन दोस्त- निंब
दिनेश एल० "जैहिंद"
हर कस्बे हर मोड़ पर,
हर कस्बे हर मोड़ पर,
sushil sarna
पंचांग (कैलेंडर)
पंचांग (कैलेंडर)
Dr. Vaishali Verma
■ दोमुंहा-सांप।।
■ दोमुंहा-सांप।।
*प्रणय प्रभात*
पुलिस की ट्रेनिंग
पुलिस की ट्रेनिंग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सरसी छंद
सरसी छंद
Charu Mitra
दिलकश
दिलकश
Vandna Thakur
एक उलझन में हूं मैं
एक उलझन में हूं मैं
हिमांशु Kulshrestha
Loading...