Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Nov 2023 · 1 min read

.*यादों के पन्ने…….

…….यादों के पन्ने…….

पुरानी यादों को खोल कर देखा तो
याद बहुत आई
उन बिताये हुये लम्हों की
याद बहुत आई

सकूल की वह प्यारी सी मस्ती,
लड़ना झगड़ना फिर खेलना कुस्ती
स्वागतम पर बैठकर बातें करना
बातों बातों मे ही
हंसने रोने की याद बहुत आई
बीते दिनों की याद बहुत आई

माँ ने किस विषय पर डांटा था
टीचर ने किस लेक्चर पर पीटा था
या भाई की शिकायतें करना
खयालों मे ही रात कब गहराई
बीते दिनों की याद बहुत आई

बनाफर मॅम से डांट खाना
अल्ताफ सर को देखते ही भाग जाना
खोडे सर से अच्छे से पढ़ना
बावीस्कर सर से सारी बाते करना
एक दुसरे की केयर करना
बांटकर टिफिन खाने की याद आई
बीते दिनों की याद बहुत आई

त्योहार सभी मिलकर मनाते
ईद बकरीद पर हाथ मिलाते
होली दिवाली पर खुशी मनाते
आते हैं वो दिन याद जब भी
हो जाते हैं बेचैन अब भी
उन दोस्तों की दोस्ती बहुत याद आई
बीते दिनों की याद बहुत आई
……….,………,………….
नौशाबा जिलानी सुरिया

Language: Hindi
1 Like · 188 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
'अशांत' शेखर
छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
छीज रही है धीरे-धीरे मेरी साँसों की डोर।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अर्ज किया है
अर्ज किया है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Republic Day
Republic Day
Tushar Jagawat
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
Paras Nath Jha
💐 Prodigy Love-9💐
💐 Prodigy Love-9💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सच्चाई ~
सच्चाई ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मैं और दर्पण
मैं और दर्पण
Seema gupta,Alwar
गज़ल (राखी)
गज़ल (राखी)
umesh mehra
मानवता की चीखें
मानवता की चीखें
Shekhar Chandra Mitra
*अष्टभुजाधारी हमें, दो माता उपहार (कुंडलिया)*
*अष्टभुजाधारी हमें, दो माता उपहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
!! सुविचार !!
!! सुविचार !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
दिल ने दिल को पुकारा, दिल तुम्हारा हो गया
दिल ने दिल को पुकारा, दिल तुम्हारा हो गया
Ram Krishan Rastogi
समझ
समझ
अखिलेश 'अखिल'
मन ,मौसम, मंजर,ये तीनों
मन ,मौसम, मंजर,ये तीनों
Shweta Soni
लुगाई पाकिस्तानी रे
लुगाई पाकिस्तानी रे
gurudeenverma198
प्यार और विश्वास
प्यार और विश्वास
Harminder Kaur
24/244. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/244. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ अपना मान, अपने हाथ
■ अपना मान, अपने हाथ
*Author प्रणय प्रभात*
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
अभी तो रास्ता शुरू हुआ है।
Ujjwal kumar
*खादिम*
*खादिम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे मरने के बाद
मेरे मरने के बाद
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
शेखर सिंह
**** बातें दिल की ****
**** बातें दिल की ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"हँसिया"
Dr. Kishan tandon kranti
पीर पराई
पीर पराई
Satish Srijan
धरती के भगवान
धरती के भगवान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुहब्बत  फूल  होती  है
मुहब्बत फूल होती है
shabina. Naaz
बहुमत
बहुमत
मनोज कर्ण
Loading...