Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2022 · 2 min read

यादों के झरोखों से…

यादों के झरोखों से…
°~°~°~°~°
यादों के झरोखों से , कुछ सुनहरी यादें है,
बीते हुए लम्हों की अनकही ज़ज्बातें है।

फूस की झोपड़ियों में,
गुजरा था बचपन का कोना,
गांवों की गलियों में, गुमनाम तराने थे।
भींगता तन-मन जो,रिमझिम सी बारिश में,
कागज के नौका संग, हम सब दीवाने थे ।
मेढक की टर्र-टर्र संग खुद भी टर्रटराना,
कोयलिया के कुहू-कुहू संग,
कोकिल का स्वाँग रचाना।
मन के मकरंदो पर वो, भ्रमर का ही गुंजन है..

यादों के झरोखों से , कुछ सुनहरी यादें है,
बीते हुए लम्हों की अनकही ज़ज्बातें है।

आंगन की क्यारी में लहराता हमेशा ही,
माता का आंचल तो बड़ा मनभावन था।
बरगद के पेड़ों सा पिता की परछाई थी,
खेतों में झूमें मन,फसलों की बाली थी।
दोस्तों संग खेला जो,वो पिट्टो और कबड्डी था।
गुजरा वो बचपन अब, भूला हुआ आंगन है…

यादों के झरोखों से , कुछ सुनहरी यादें है,
बीते हुए लम्हों की अनकही ज़ज्बातें है।

जीवन की तरुणाई में, ढूंढती वो निगाहें जो,
दिल की बातें कुछ, निगाहों से बयां होती थी ।
आंखों की गुस्ताखियों को,खामोशियां पढ़ लेती थी,
भीड़ में कहाँ गुमसुम मोहब्बत के फंसाने थे।
बुनते नये ख्वाबों का,आशियाँ रोज दिन हम तो,
यादों को यादों से अब तो हंसी आती ।
लम्हें जो बीते वो बड़ा ही प्रभावन था।
बीता हुआ यौवन भी एक मंगल उद्बोधन है…

यादों के झरोखों से , कुछ सुनहरी यादें है,
बीते हुए लम्हों की अनकही ज़ज्बातें है।

गृहस्थी का प्रांगण भी यादों में सिमटी है,
हकीकत में वो ख्वाबें तो, कष्टें भी भुगती है।
परिश्रम के पसीने से आंगन को सजाया हूँ ,
संतति के सपनें हेतु ,सपने कुछ छिपाया हूँ।
चुन-चुन कर खुशियों को हथेली पर लाया हूँ ।
पल-पल परिवर्तन पर जीवन एक उपवन है।
भविष्य की चुनौती को, करती कुछ फरियादें हैं…

यादों के झरोखों से , कुछ सुनहरी यादें है,
बीते हुए लम्हों की अनकही ज़ज्बातें है।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १० /०१ / २०२२
पौष, शुक्ल पक्ष, अष्टमी
२०७८, विक्रम सम्वत,सोमवार
मोबाइल न. – 8757227201

Language: Hindi
7 Likes · 2 Comments · 2747 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
भारत मां की पुकार
भारत मां की पुकार
Shriyansh Gupta
अपनी कीमत उतनी रखिए जितना अदा की जा सके
अपनी कीमत उतनी रखिए जितना अदा की जा सके
Ranjeet kumar patre
" दीया सलाई की शमा"
Pushpraj Anant
साक्षात्कार स्वयं का
साक्षात्कार स्वयं का
Pratibha Pandey
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
Ravi Prakash
3338.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3338.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बाल कविता: हाथी की दावत
बाल कविता: हाथी की दावत
Rajesh Kumar Arjun
#आत्मीय_मंगलकामनाएं
#आत्मीय_मंगलकामनाएं
*Author प्रणय प्रभात*
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
surenderpal vaidya
*शिवे भक्तिः शिवे भक्तिः शिवे भक्ति  भर्वे भवे।*
*शिवे भक्तिः शिवे भक्तिः शिवे भक्ति भर्वे भवे।*
Shashi kala vyas
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
वो दो साल जिंदगी के (2010-2012)
वो दो साल जिंदगी के (2010-2012)
Shyam Pandey
अच्छे दामों बिक रहे,
अच्छे दामों बिक रहे,
sushil sarna
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
बहुत यत्नों से हम
बहुत यत्नों से हम
DrLakshman Jha Parimal
★संघर्ष जीवन का★
★संघर्ष जीवन का★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
सृजन
सृजन
Prakash Chandra
निजी कॉलेज/ विश्वविद्यालय
निजी कॉलेज/ विश्वविद्यालय
Sanjay ' शून्य'
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
कवि रमेशराज
कभी रहे पूजा योग्य जो,
कभी रहे पूजा योग्य जो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
Johnny Ahmed 'क़ैस'
Chalo khud se ye wada karte hai,
Chalo khud se ye wada karte hai,
Sakshi Tripathi
"" *हे अनंत रूप श्रीकृष्ण* ""
सुनीलानंद महंत
❤बिना मतलब के जो बात करते है
❤बिना मतलब के जो बात करते है
Satyaveer vaishnav
......मंजिल का रास्ता....
......मंजिल का रास्ता....
Naushaba Suriya
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
कवि दीपक बवेजा
छह दिसबंर / MUSAFIR BAITHA
छह दिसबंर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
कुछ मन्नतें पूरी होने तक वफ़ादार रहना ऐ ज़िन्दगी.
पूर्वार्थ
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...