#13 Trending Author
Jan 10, 2022 · 2 min read

यादों के झरोखों से…

यादों के झरोखों से…
°~°~°~°~°
यादों के झरोखों से , कुछ सुनहरी यादें है,
बीते हुए लम्हों की अनकही ज़ज्बातें है।

फूस की झोपड़ियों में,गुजरा था बचपन का कोना,
गांवों की गलियों में, गुमनाम तराने थे।
भींगता तन-मन जो,रिमझिम सी बारिश में,
कागज के नौका संग, हम सब दीवाने थे ।
मेढक की टर्र-टर्र संग खुद भी टर्रटराना,
कोयलिया के कुहू-कुहू संग कोकिल का स्वाँग रचाना।
मन के मकरंदो पर वो, भ्रमर का ही गुंजन है..

यादों के झरोखों से , कुछ सुनहरी यादें है,
बीते हुए लम्हों की अनकही ज़ज्बातें है।

आंगन की क्यारी में लहराता हमेशा ही,
माता का आंचल तो बड़ा मनभावन था।
बरगद के पेड़ों सा पिता की परछाई थी,
खेतों में झूमें मन,फसलों की बाली थी।
दोस्तों संग खेला जो,वो पिट्टो और कबड्डी था।
गुजरा वो बचपन अब, भूला हुआ आंगन है…

यादों के झरोखों से , कुछ सुनहरी यादें है,
बीते हुए लम्हों की अनकही ज़ज्बातें है।

जीवन की तरुणाई में, ढूंढती वो निगाहें जो,
दिल की बातें कुछ, निगाहों से बयां होती थी ।
आंखों की गुस्ताखियों को,खामोशियां पढ़ लेती थी,
भीड़ में कहाँ गुमसुम मोहब्बत के फंसाने थे।
बुनते नये ख्वाबों का,आशियाँ रोज दिन हम तो,
यादों को यादों से अब तो हंसी आती ।
लम्हें जो बीते वो बड़ा ही प्रभावन था।
बीता हुआ यौवन भी एक मंगल उद्बोधन है…

यादों के झरोखों से , कुछ सुनहरी यादें है,
बीते हुए लम्हों की अनकही ज़ज्बातें है।

गृहस्थी का प्रांगण भी यादों में सिमटी है,
हकीकत में वो ख्वाबें तो, कष्टें भी भुगती है।
परिश्रम के पसीने से आंगन को सजाया हूँ ,
संतति के सपनें हेतु ,सपने कुछ छिपाया हूँ।
चुन-चुन कर खुशियों को हथेली पर लाया हूँ ।
पल-पल परिवर्तन पर जीवन एक उपवन है।
भविष्य की चुनौती को, करती कुछ फरियादें हैं…

यादों के झरोखों से , कुछ सुनहरी यादें है,
बीते हुए लम्हों की अनकही ज़ज्बातें है।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १० /०१ / २०२२
पौष, शुक्ल पक्ष, अष्टमी
२०७८, विक्रम सम्वत,सोमवार
मोबाइल न. – 8757227201

5 Likes · 383 Views
You may also like:
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
मन बस्या राम
हरीश सुवासिया
उत्तर प्रदेश दिवस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इश्क
goutam shaw
तन्हा हूं, मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
पिता
Shankar J aanjna
चाँद ने कहा
कुमार अविनाश केसर
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
प्यार के फूल....
Dr. Alpa H.
उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये
Manisha Manjari
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
बहंगी लचकत जाय
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
मां ने।
Taj Mohammad
मनस धरातल सरक गया है।
Saraswati Bajpai
हनुमान जयंती पर कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
मुझको ये जीवन जीना है
Saraswati Bajpai
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
जानें कैसा धोखा है।
Taj Mohammad
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
बस करो अब मत तड़फाओ ना
Krishan Singh
Loading...