Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jan 2022 · 2 min read

“यादों के झरोखे से”..

“यादों के झरोखे से”..
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°

“यादों के झरोखे से”, मैं क्या-क्या बताऊॅं,
क्या-क्या याद करूॅं और क्या भूल जाऊॅं।

अपना बचपन था,जैसे समुंदर की हों लहरें;
मस्ती थी, सस्ती; बगीचों में गुजरती दोपहरें;
निकलते थे,सब ही अपने ‘घरों’ से ‘धोखे’ से;
आज याद आई ये बात,”यादों के झरोखे से”।

‘दोस्त’ ही होते थे, सदा असली सलाहकार;
‘दोस्ती’ थी गहरी, आपस में था खूब प्यार।
सबमें सदा खूब, ‘हसीं-मजाक’ भी होते थे;
आज याद आई ये बात,”यादों के झरोखे से”।

‘स्कूलों’ में था ना,किसी की ‘जाति’ का पता;
ना ही था वहां , कोई ‘धर्म’ का ही ‘ठिकाना’;
आपस में सब , लड़ते भी कभी ‘अनोखे’ से;
आज याद आई ये बात,”यादों के झरोखे से”।

तब सब ही थे , बस एक दूजे का ‘दीवाना’;
निज सुख-दुःख में,सब साथ हॅंसते-रोते थे;
बर्फ, पाचक और बैर भी मिल बाॅंट खाते थे;
आज याद आई ये बात,”यादों के झरोखे से”।

अलग उमंग था, जब ‘स्कूल’ में ‘लट्टू’ नचाते थे;
अठन्नी-चौवन्नी ही,कभी-कभी स्कूल ले जाते थे;
भिखारी भी खुश हो जाते, दो पैसों के भीखों से;
आज याद आई है ये बात,”यादों के झरोखों से”।

‘पढ़ाई’ का सबमें, तब अलग ही ‘जज्बा’ था;
पढ़ने वालों का ही, ‘समाज’ पर ‘कब्जा’ था;
उन्हें देखकर , सब ही खुशी से झूम जाते थे;
आज याद आई ये बात,”यादों के झरोखे से”।

तब माहौल तो था , सड़कों पे भी शांति का;
सिर्फ ‘दूरदर्शन’ था,देखते किस्सा शांति का;
‘रंगोली’और ‘रामायण’भी,खूब देखे जाते थे;
आज याद आई ये बात,”यादों के झरोखे से”।

कुछ लाने होते थे,न पास कहीं बड़ी दुकान थी;
हमेशा तो पैदल या साइकिल की ही,उड़ान थी;
न बड़े मकान थे,फूसों में ही खुशी सब सोते थे;
फिर से याद आई ये बात,”यादों के झरोखे से”।

और क्या, “यादों के झरोखे से” भला बताऊं;
आखिर क्यों मैं ही, खुद के यादों को सताऊं…..

आखिर क्यों मैं ही, खुद के यादों को सताऊं………
************************************

स्वरचित सह मौलिक;
……✍️पंकज ‘कर्ण’
………….कटिहार।।

Language: Hindi
6 Likes · 3 Comments · 1035 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
#देकर_दगा_सभी_को_नित_खा_रहे_मलाई......!!
#देकर_दगा_सभी_को_नित_खा_रहे_मलाई......!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Legal Quote
Legal Quote
GOVIND UIKEY
#हाँसो_र_मुस्कान
#हाँसो_र_मुस्कान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
PRATIK JANGID
चाँद से बातचीत
चाँद से बातचीत
मनोज कर्ण
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
Rj Anand Prajapati
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
Dr MusafiR BaithA
*** शुक्रगुजार हूँ ***
*** शुक्रगुजार हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
दुख
दुख
Rekha Drolia
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
The Digi Begs [The Online Beggars]
The Digi Begs [The Online Beggars]
AJAY AMITABH SUMAN
परिपक्वता
परिपक्वता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
भारत माता की वंदना
भारत माता की वंदना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
23/40.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/40.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेशर्मी से रात भर,
बेशर्मी से रात भर,
sushil sarna
कृष्ण सुदामा मित्रता,
कृष्ण सुदामा मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आँखें
आँखें
लक्ष्मी सिंह
महबूब से कहीं ज़्यादा शराब ने साथ दिया,
महबूब से कहीं ज़्यादा शराब ने साथ दिया,
Shreedhar
जीवन में चुनौतियां हर किसी
जीवन में चुनौतियां हर किसी
नेताम आर सी
आई पत्नी एक दिन ,आरक्षण-वश काम (कुंडलिया)
आई पत्नी एक दिन ,आरक्षण-वश काम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
*कौन-सो रतन बनूँ*
*कौन-सो रतन बनूँ*
Poonam Matia
💐प्रेम कौतुक-345💐
💐प्रेम कौतुक-345💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
रेखा कापसे
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
gurudeenverma198
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
संघर्ष हमारा जीतेगा,
संघर्ष हमारा जीतेगा,
Shweta Soni
पहले नाराज़ किया फिर वो मनाने आए।
पहले नाराज़ किया फिर वो मनाने आए।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...