Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई

यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई

कौन कौन , कब – कब
और किसने –
तो कुछ ने आँखों से ही
अनकही –
कुछ ने बोल के क्या – क्या कही
यादों के अथाह में , सालों तैरती रही

यादों की कुछ बूँदें कभी ,
तेज़ाब सी टपकी
कोमल मन की चमड़ी
जल जल काली हो गई

उम्र के सफर के
अलग अलग सराय में
कभी कड़ी धूप ने
तो कभी फूलती साँस ने
थका कर बिठा दिया,
कभी ठंडी हवा
कोमल बारिश के झोंको ने
सहला कर सुला दिया

और जब थक के कभी आँखे ,
गहराईओं में मूँद लीं
तो यादों के अथाह से ,
कुछ शहद सी
टपकती बूंदे
मन को शीतल कर गई

याद भी समुद्र मंथन है
यादों में विष है –
तो कहीं अमृत भी है छुपी हुई

Language: Hindi
91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Atul "Krishn"
View all
You may also like:
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
Manju Singh
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
मिष्ठी का प्यारा आम
मिष्ठी का प्यारा आम
Manu Vashistha
उदासी एक ऐसा जहर है,
उदासी एक ऐसा जहर है,
लक्ष्मी सिंह
मृदा प्रदूषण घातक है जीवन को
मृदा प्रदूषण घातक है जीवन को
Buddha Prakash
ज़रूरतमंद की मदद
ज़रूरतमंद की मदद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2407.पूर्णिका
2407.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बुंदेली दोहे- रमतूला
बुंदेली दोहे- रमतूला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ऐ मोहब्बत तेरा कर्ज़दार हूं मैं।
ऐ मोहब्बत तेरा कर्ज़दार हूं मैं।
Phool gufran
बगिया के गाछी आउर भिखमंगनी बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया के गाछी आउर भिखमंगनी बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
चांद मुख पे धब्बे क्यों हैं आज तुम्हें बताऊंगी।
चांद मुख पे धब्बे क्यों हैं आज तुम्हें बताऊंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
फितरत
फितरत
umesh mehra
ज़रूरत के तकाज़ो
ज़रूरत के तकाज़ो
Dr fauzia Naseem shad
😢न्याय का हथौड़ा😢
😢न्याय का हथौड़ा😢
*Author प्रणय प्रभात*
अपनी कमी छुपाए कै,रहे पराया देख
अपनी कमी छुपाए कै,रहे पराया देख
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
डूबता सुरज हूँ मैं
डूबता सुरज हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
बांध लो बेशक बेड़ियाँ कई,
बांध लो बेशक बेड़ियाँ कई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
*कैसे  बताएँ  कैसे जताएँ*
*कैसे बताएँ कैसे जताएँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*अभागे पति पछताए (हास्य कुंडलिया)*
*अभागे पति पछताए (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शिव वन्दना
शिव वन्दना
Namita Gupta
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
जिनसे ये जीवन मिला, कहे उन्हीं को भार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
Hanuman Ramawat
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
अपना घर फूंकने वाला शायर
अपना घर फूंकने वाला शायर
Shekhar Chandra Mitra
परख: जिस चेहरे पर मुस्कान है, सच्चा वही इंसान है!
परख: जिस चेहरे पर मुस्कान है, सच्चा वही इंसान है!
Rohit Gupta
ओ लहर बहती रहो …
ओ लहर बहती रहो …
Rekha Drolia
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
gurudeenverma198
मशाल
मशाल
नेताम आर सी
Loading...