Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2016 · 1 min read

यादों की छाल

रात अपने ख्यालों के
जंगल में जाना
कभी तो
रास्ते किनारे
झील पे झुके पेड़ से
एक शरारत तोड़ लाना।

फ़र्द में अधूरी
मिसरों के विलय में उलझी
ग़ज़ल की डालियों में चंद
हर्फों के
कांटे बिखरे पड़े हैं।

पाँव की कोरें में
चुभ गए अगर राज़ दोस्ती के
तो यादों की छाल से रिसते द्रव्य की
दो बूँद छुआना
और आगे बढ़ते जाना

याद है
वो पिछले साल
जब बारिश ज़्यादा हुई थी
और दो शामें चट्टानों पर
नंगे पैर दौड़ पड़ी थीं
वो सब तुमने एक रूमाल पे
काढ ली थीं।

आज उसी
रूमाल का एक कोना
वक्त पर काम आया है मेरा
प्यार भी इंसान को कितना सिखाता है
दोस्ती का सफर रूमान हो
तो दूर तक जाता है।

~ सूफी बेनाम

Language: Hindi
461 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भगतसिंह का क़र्ज़
भगतसिंह का क़र्ज़
Shekhar Chandra Mitra
संविधान
संविधान
लक्ष्मी सिंह
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में....
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में....
डॉ.सीमा अग्रवाल
!! वो बचपन !!
!! वो बचपन !!
Akash Yadav
गंगा ....
गंगा ....
sushil sarna
आज आचार्य विद्यासागर जी कर गए महाप्रयाण।
आज आचार्य विद्यासागर जी कर गए महाप्रयाण।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गाँधी जयंती
गाँधी जयंती
Surya Barman
शु'आ - ए- उम्मीद
शु'आ - ए- उम्मीद
Shyam Sundar Subramanian
#निस्वार्थ-
#निस्वार्थ-
*Author प्रणय प्रभात*
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
23/02.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/02.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Neelam Sharma
कुछ तो तुझ से मेरा राब्ता रहा होगा।
कुछ तो तुझ से मेरा राब्ता रहा होगा।
Ahtesham Ahmad
सापटी
सापटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सनम
सनम
Sanjay ' शून्य'
हायकू
हायकू
Ajay Chakwate *अजेय*
सच
सच
Neeraj Agarwal
"सत्य"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
Someone Special
Someone Special
Ram Babu Mandal
*वीर सावरकर 【गीत 】*
*वीर सावरकर 【गीत 】*
Ravi Prakash
पतंग
पतंग
अलका 'भारती'
कृपा करें त्रिपुरारी
कृपा करें त्रिपुरारी
Satish Srijan
"दो हजार के नोट की व्यथा"
Radhakishan R. Mundhra
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
नये गीत गायें
नये गीत गायें
Arti Bhadauria
*संस्कारों की दात्री*
*संस्कारों की दात्री*
Poonam Matia
सारी हदों को तोड़कर कबूला था हमने तुमको।
सारी हदों को तोड़कर कबूला था हमने तुमको।
Taj Mohammad
"लक्षण"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...