Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jun 12, 2016 · 1 min read

यादों की छाल

रात अपने ख्यालों के
जंगल में जाना
कभी तो
रास्ते किनारे
झील पे झुके पेड़ से
एक शरारत तोड़ लाना।

फ़र्द में अधूरी
मिसरों के विलय में उलझी
ग़ज़ल की डालियों में चंद
हर्फों के
कांटे बिखरे पड़े हैं।

पाँव की कोरें में
चुभ गए अगर राज़ दोस्ती के
तो यादों की छाल से रिसते द्रव्य की
दो बूँद छुआना
और आगे बढ़ते जाना

याद है
वो पिछले साल
जब बारिश ज़्यादा हुई थी
और दो शामें चट्टानों पर
नंगे पैर दौड़ पड़ी थीं
वो सब तुमने एक रूमाल पे
काढ ली थीं।

आज उसी
रूमाल का एक कोना
वक्त पर काम आया है मेरा
प्यार भी इंसान को कितना सिखाता है
दोस्ती का सफर रूमान हो
तो दूर तक जाता है।

~ सूफी बेनाम

319 Views
You may also like:
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
हम सब एक है।
Anamika Singh
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पल
sangeeta beniwal
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
Loading...