Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2018 · 1 min read

यादें

सुनहरी यादें

संग उनके बीते वो लम्हें बहुत रुलाते है।
उनकी बाहों के वो झूले मुझें मीठी नींद में सुलाते है।।।।।

उनका मुझसे हँस कर बात करना कैसे भूल जाऊ।
आज भी मेरे सपनों में वो अकेले चले आते है।

निकलती हूँ शामो शहर में घूमने को गली में उनकी।
वो कभी कभी मेरी राहों में टकरा जाते हैं।।।।

आहिस्ता आहिस्ता दिन गुज़रने लगें है उनके बगैर।
हम तन्हाई में छुप छुप अश्क़ बहाते है।।।।।

दिल में मेरे रह रह कर रोज दर्द की टिस उठती है।।
जाने वो मेरे बगर खुद को कैसे बहलाते है।।।।।।

रख लिया है उन्होंने हमें एक बन्द कमरे में कभी कभी देखने के लिये।
हम अपने अल्फाज़ो से उन्हें अपना दर्द सुनाते है।।

आज नही तो कल मुझे यक़ीन है वो मिलेंगे मुझसे जरूर।
हम यही सोच खुद को रोज समझाते है।।।।

आता नही चैन इस नादान दिल को कैसे समजाऊँ।
इसी लिए नींदों में उनके सपने पलकों पर हम सजाते है।।।

कब आयेंगे वो ये सोचते है दिन रात तन्हाई और रुसवाई में बैठकर।
कभी कभी उनके दीदार को उन्हें अपनी गली बुलाते हैं।।।।।

मग़र अब बदल गया उसका मिज़ाज ये मौसम बहार जैसा।।
लगता हैं सोनू को अब वो पहले जैसा नही चाहाते है।

रचनाकार
गायत्री सोनू जैन
कॉपीराइट सुरक्षित

1 Like · 1 Comment · 286 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पुष्प और तितलियाँ
पुष्प और तितलियाँ
Ritu Asooja
इंसान तो मैं भी हूं लेकिन मेरे व्यवहार और सस्कार
इंसान तो मैं भी हूं लेकिन मेरे व्यवहार और सस्कार
Ranjeet kumar patre
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सुर्ख चेहरा हो निगाहें भी शबाब हो जाए ।
सुर्ख चेहरा हो निगाहें भी शबाब हो जाए ।
Phool gufran
Someday you'll look back and realize that you overcame all o
Someday you'll look back and realize that you overcame all o
पूर्वार्थ
वातायन के खोलती,
वातायन के खोलती,
sushil sarna
माँ की कहानी बेटी की ज़ुबानी
माँ की कहानी बेटी की ज़ुबानी
Rekha Drolia
प्रेम पर बलिहारी
प्रेम पर बलिहारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
फिर क्यों मुझे🙇🤷 लालसा स्वर्ग की रहे?🙅🧘
डॉ० रोहित कौशिक
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
इक ग़ज़ल जैसा गुनगुनाते हैं
Shweta Soni
कल को छोड़कर
कल को छोड़कर
Meera Thakur
विश्व कप लाना फिर एक बार, अग्रिम तुम्हें बधाई है
विश्व कप लाना फिर एक बार, अग्रिम तुम्हें बधाई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वे सोचते हैं कि मार कर उनको
वे सोचते हैं कि मार कर उनको
VINOD CHAUHAN
The story of the two boy
The story of the two boy
DARK EVIL
उम्र पैंतालीस
उम्र पैंतालीस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जाहि विधि रहे राम ताहि विधि रहिए
जाहि विधि रहे राम ताहि विधि रहिए
Sanjay ' शून्य'
"उम्मीदों की जुबानी"
Dr. Kishan tandon kranti
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
विष्णु प्रभाकर जी रहे,
विष्णु प्रभाकर जी रहे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुज़रते वक्त ने
गुज़रते वक्त ने
Dr fauzia Naseem shad
करवाचौथ
करवाचौथ
Satish Srijan
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
SHAMA PARVEEN
*पैसे-वालों में दिखा, महा घमंडी रोग (कुंडलिया)*
*पैसे-वालों में दिखा, महा घमंडी रोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
🎊🏮*दीपमालिका  🏮🎊
🎊🏮*दीपमालिका 🏮🎊
Shashi kala vyas
मोहब्बत
मोहब्बत
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
लक्ष्मी सिंह
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
3130.*पूर्णिका*
3130.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...