Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2017 · 1 min read

यादें।

पूछना उन दरख्तों औऱ झीलों झरनों से
गुजरोंगें जब तुम उस राहों से
तेरी यादों के वहीं निशान बाकी हैं।
हमारी सिसकियों से वो भी सहमे थे
जब हम रोये थे उन दिनों मे
तेरी यादों के वहीं निशान बाकी हैं।
आज भी महक आती है हवाओं मे
एहसास दिलाती तेरे होने का गांव मे
तेरी यादों के वहीं निशान बाकी हैं।
वो थोड़ी सी मुलाकातें
वो जीवन भर साथ रहने की कसमें
तेरी यादों के वहीं निशान बाकी हैं।

187 Views
You may also like:
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
रविवार
रविवार
Shiva Awasthi
वादा करके चले गए
वादा करके चले गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम ना आए....
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
न गिराओ हवाओं मुझे , औकाद में रहो
न गिराओ हवाओं मुझे , औकाद में रहो
कवि दीपक बवेजा
हालात-ए-दिल
हालात-ए-दिल
लवकुश यादव "अज़ल"
" सिनेमा को दरक़ार है अब सुपरहिट गीतों की "...
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
If I become a doctor, I will open hearts of...
Ankita Patel
हम दिल से ना हंसे हैं।
हम दिल से ना हंसे हैं।
Taj Mohammad
💥प्रेम की राह पर-69💥
💥प्रेम की राह पर-69💥
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे प्यारे पहाड़ 🏔️
मेरे प्यारे पहाड़ 🏔️
Skanda Joshi
# मंजिल के राही
# मंजिल के राही
Rahul yadav
अंग्रेजी का अखबार (हास्य व्यंग्य)
अंग्रेजी का अखबार (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
सिकन्दर बनकर क्या करना
सिकन्दर बनकर क्या करना
Satish Srijan
मजबूरी तो नहीं
मजबूरी तो नहीं
Mahesh Tiwari 'Ayen'
बहकने दीजिए
बहकने दीजिए
surenderpal vaidya
ਹਕੀਕਤ ਵਿੱਚ
ਹਕੀਕਤ ਵਿੱਚ
Surinder blackpen
हमने जब तेरा
हमने जब तेरा
Dr fauzia Naseem shad
मुक्त परिंदे पुस्तक समीक्षा
मुक्त परिंदे पुस्तक समीक्षा
लालबहादुर चौरसिया 'लाल'
काश ये नींद भी तेरी याद के जैसी होती ।
काश ये नींद भी तेरी याद के जैसी होती ।
Amit Kumar
बाल्यकाल (मैथिली भाषा)
बाल्यकाल (मैथिली भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
एक वह है और एक आप है
एक वह है और एक आप है
gurudeenverma198
दलदल में फंसी
दलदल में फंसी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तितली
तितली
Shyam Sundar Subramanian
बेशक खताये बहुत है
बेशक खताये बहुत है
shabina. Naaz
I was sailing my ship proudly long before your arrival.
I was sailing my ship proudly long before your arrival.
Manisha Manjari
मारे जाओगे
मारे जाओगे
Shekhar Chandra Mitra
वो निरंतर चलता रहता है,
वो निरंतर चलता रहता है,
laxmivarma.lv
बाल कहानी- रोहित
बाल कहानी- रोहित
SHAMA PARVEEN
अन्न देवता
अन्न देवता
Dr. Girish Chandra Agarwal
Loading...