Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

यह 🤦😥😭दुःखी संसार🌐🌏🌎🗺️

शायद! धरा पर , धरा गया कुलिश-कुशासन का भार|
संस्कारों से झरता नार ,सुचालक कुविचारों का तार।।

रोग निगले आदमी को, मिलकर जल – वायु का साथ|
कितना लम्बा हो गया है, काल का विकट यह हाथ||

तुझे क्या मतलब? ये खाऊँ, मेरा मन जो खाऊँ ।
पैसा मेरा, तन है मेरा, जैसी मर्जी वहीं रम जाऊं|।

निर्मम मन से मांसाहार, पर पीड़ा को दिया बिसार।
हाल* बीमारी से देखो जन-धन पर कैसी पड़ती मार?

आचार बिगड़ा, खान-पान का, अंध-आंधी अनुकरण वाली|
क्रमशः संक्रमित, अमित होकर, फैला रहे हैं बदहाली।।

परिग्रही*, परग्रही* , परंतप* भावों से अत्याचार-भरमार|
हम, हमारा, छोड़ा, छूटा सुखी – जीवन का सही विचार।।

प्रकृति, समय से बड़ा ठाने, घमंडी, मंदबुद्धि-*कासार।
इसी सोच में, शोक-भरा है,दुःखद समय का यह संसार||

संकेत शब्द:-
1* इस समय,2*इकट्ठा करने वाला, 3* दूसरों का हड़पने वाला, 4* दूसरों को सताने वाला,5* जलाशय ।।

1 Like · 101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे गर्व है अलीगढ़ पर #रमेशराज
मुझे गर्व है अलीगढ़ पर #रमेशराज
कवि रमेशराज
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
Aarti sirsat
उसको फिर उसका
उसको फिर उसका
Dr fauzia Naseem shad
बाल एवं हास्य कविता : मुर्गा टीवी लाया है।
बाल एवं हास्य कविता : मुर्गा टीवी लाया है।
Rajesh Kumar Arjun
हम खुद से प्यार करते हैं
हम खुद से प्यार करते हैं
ruby kumari
“सत्य वचन”
“सत्य वचन”
Sandeep Kumar
अभी कुछ बरस बीते
अभी कुछ बरस बीते
shabina. Naaz
शेखर ✍️
शेखर ✍️
शेखर सिंह
सर्द और कोहरा भी सच कहता हैं
सर्द और कोहरा भी सच कहता हैं
Neeraj Agarwal
" शिखर पर गुनगुनाओगे "
DrLakshman Jha Parimal
मधुमास में बृंदावन
मधुमास में बृंदावन
Anamika Tiwari 'annpurna '
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझको
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझको
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
Blabbering a few words like
Blabbering a few words like " live as you want", "pursue you
Sukoon
Pollution & Mental Health
Pollution & Mental Health
Tushar Jagawat
चली लोमड़ी मुंडन तकने....!
चली लोमड़ी मुंडन तकने....!
singh kunwar sarvendra vikram
आगे पीछे का नहीं अगल बगल का
आगे पीछे का नहीं अगल बगल का
Paras Nath Jha
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
sushil sarna
हमराही
हमराही
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
Phool gufran
"हद"
Dr. Kishan tandon kranti
The Magical Darkness
The Magical Darkness
Manisha Manjari
चाँद
चाँद
ओंकार मिश्र
मौसम....
मौसम....
sushil yadav
चलो, इतना तो पता चला कि
चलो, इतना तो पता चला कि "देशी कुबेर काला धन बांटते हैं। वो भ
*प्रणय प्रभात*
*अब सब दोस्त, गम छिपाने लगे हैं*
*अब सब दोस्त, गम छिपाने लगे हैं*
shyamacharan kurmi
जिंदगी तेरे कितने रंग, मैं समझ न पाया
जिंदगी तेरे कितने रंग, मैं समझ न पाया
पूर्वार्थ
दिल की हरकते दिल ही जाने,
दिल की हरकते दिल ही जाने,
Lakhan Yadav
3005.*पूर्णिका*
3005.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
संजय कुमार संजू
Loading...