Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2017 · 2 min read

यह वही नारी है

निडर और स्वावलंबी बनकर अपनी छवि निखारी है असहाय और अबला नहीं शक्तिपुंज वह नारी है
अपनी शक्ति से वह अब तलक अनजान थी सब कुछ सहकर भी चुप रहना ही उसकी पहचान थी
अन्याय के विरुद्ध आज जिसने आवाज़ उठाई है साहस के दम पर अपनी अलग पहचान बनाई है
उसकी शक्ति से डरने वाले इतने भयभीत हो जाते थे कहीं जाग न जाए वह इतना उसको दबाते थे
अन्याय की हद जब पार हो जाती है तब अन्याय से लड़ने को वह बाध्य हो जाती है
उसने कभी न चाहा था घर से बाहर निकलना अपना सुख चैन छोड़ यों दो पाटों में पिसना
तुम्हारे सुख दुःख में उसने दिया योगदान सबके सुख की खातिर उसने किया खुद को कुर्बान
उसकी इस सरलता पर जब हुआ कुठाराघात अपना अस्तित्व बचाने को तब किया उसने प्रतिघात
बुद्धि चातुर्य कला कौशल में उसे न कोई डिगा पाया अपनी कुटिल चालों से ही तब उसको नीचा दिखलाया
उसकी पवित्रता पर चोरी से सबने वार किया निर्लज्ज चरित्रहीन जैसे विशेषणों से अपमानित किया
मानव जाति को जिसने जन्मा अपनी जान की मांगे भीख मुझे मत मारो मौत के घाट न उतारो कहे चीख चीख
अपना घर हो या बाहर कहीं नहीं वह सुरक्षित अपना नारीत्व बचाने को सदा रही वह चिंतित
प्रेम व सुरक्षा जैसे अधिकारों से है वंचित समाज और राष्ट्र से जिसको कृतज्ञता है अपेक्षित
राष्ट्र आज प्रगति पर है परम्पराएं हैं पुरानी नारी के लिए वही अग्नि परीक्षा पुरुषों की चलती मनमानी
पुरुषों के किये का दंड क्यों भुगते नारी क्यों किसी के कुकृत्य की उस पर हो जिम्मेदारी
सड़ी गली कुरीतियों का अब उन्मूलन क्यों न हो भय, क्रूरता और हिंसा से मुक्त नारी जीवन क्यों न हो
नारी कल भी सशक्त थी आज भी जिसने हिम्मत न हारी है अपनी आभा फैलाने वाली शक्तिपुंज विजेता यह वही नारी है

Language: Hindi
1 Like · 461 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कब मिलोगी मां.....
कब मिलोगी मां.....
Madhavi Srivastava
// सुविचार //
// सुविचार //
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
द्रोण की विवशता
द्रोण की विवशता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पुराने पन्नों पे, क़लम से
पुराने पन्नों पे, क़लम से
The_dk_poetry
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
हिय  में  मेरे  बस  गये,  दशरथ - सुत   श्रीराम
हिय में मेरे बस गये, दशरथ - सुत श्रीराम
Anil Mishra Prahari
"कैसे सबको खाऊँ"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
ना जाने कौन सी डिग्रियाँ है तुम्हारे पास
Gouri tiwari
घर एक मंदिर🌷
घर एक मंदिर🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2410.पूर्णिका
2410.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🙏 🌹गुरु चरणों की धूल🌹 🙏
🙏 🌹गुरु चरणों की धूल🌹 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ख़ामोश सी नज़र में
ख़ामोश सी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
तुम अपने खुदा पर यकीन रखते हों
तुम अपने खुदा पर यकीन रखते हों
shabina. Naaz
गरीबी
गरीबी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*रंग पंचमी*
*रंग पंचमी*
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Sakshi Tripathi
भिंडी ने रपट लिखाई (बाल कविता )
भिंडी ने रपट लिखाई (बाल कविता )
Ravi Prakash
" बेशकीमती थैला"
Dr Meenu Poonia
मुझमें रह गए
मुझमें रह गए
विनोद सिल्ला
संग दीप के .......
संग दीप के .......
sushil sarna
नींबू की चाह
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
The Magical Darkness
The Magical Darkness
Manisha Manjari
जीने की तमन्ना में
जीने की तमन्ना में
Satish Srijan
“मैं क्यों कहूँ मेरी लेखनी तुम पढ़ो”
“मैं क्यों कहूँ मेरी लेखनी तुम पढ़ो”
DrLakshman Jha Parimal
-- क्लेश तब और अब -
-- क्लेश तब और अब -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बेटी दिवस पर
बेटी दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
कमर दर्द, पीठ दर्द
कमर दर्द, पीठ दर्द
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रोशनी का पेड़
रोशनी का पेड़
Kshma Urmila
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...