Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2024 · 1 min read

यह बात शायद हमें उतनी भी नहीं चौंकाती,

यह बात शायद हमें उतनी भी नहीं चौंकाती,
पर यूं बेशर्मी से कही गई, बस दिल में चुभ गई

©️ डॉ. शशांक शर्मा “रईस”

42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
गुस्ल ज़ुबान का करके जब तेरा एहतराम करते हैं।
Phool gufran
मैं  ज़्यादा  बोलती  हूँ  तुम भड़क जाते हो !
मैं ज़्यादा बोलती हूँ तुम भड़क जाते हो !
Neelofar Khan
आज की नारी
आज की नारी
Shriyansh Gupta
**प्यार भरा पैगाम लिखूँ मैं **
**प्यार भरा पैगाम लिखूँ मैं **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
-0 सुविचार 0-
-0 सुविचार 0-
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मित्रता दिवस पर विशेष
मित्रता दिवस पर विशेष
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
शाकाहारी
शाकाहारी
डिजेन्द्र कुर्रे
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
Pankaj Sen
बेटियां
बेटियां
Nanki Patre
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2846.*पूर्णिका*
2846.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नाकाम मुहब्बत
नाकाम मुहब्बत
Shekhar Chandra Mitra
इरादा हो अगर पक्का सितारे तोड़ लाएँ हम
इरादा हो अगर पक्का सितारे तोड़ लाएँ हम
आर.एस. 'प्रीतम'
पाखंड
पाखंड
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🙏🙏 अज्ञानी की कलम 🙏🙏
🙏🙏 अज्ञानी की कलम 🙏🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ढलती उम्र -
ढलती उम्र -
Seema Garg
पेट्रोल लोन के साथ मुफ्त कार का ऑफर (व्यंग्य कहानी)
पेट्रोल लोन के साथ मुफ्त कार का ऑफर (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुमको हक है जिंदगी अपनी जी लो खुशी से
तुमको हक है जिंदगी अपनी जी लो खुशी से
VINOD CHAUHAN
शर्म शर्म आती है मुझे ,
शर्म शर्म आती है मुझे ,
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Shaily
होली के हुड़दंग में ,
होली के हुड़दंग में ,
sushil sarna
फ़ितरत-ए-दिल की मेहरबानी है ।
फ़ितरत-ए-दिल की मेहरबानी है ।
Neelam Sharma
"शिक्षक"
Dr. Kishan tandon kranti
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
शेखर सिंह
चौराहे पर....!
चौराहे पर....!
VEDANTA PATEL
माँ भारती वंदन
माँ भारती वंदन
Kanchan Khanna
मुझको मेरी लत लगी है!!!
मुझको मेरी लत लगी है!!!
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...