Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2023 · 1 min read

3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “

3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “

ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं
तुम आँचल समेटे कहती हो
मैं मृदु बातों में उलझा ही क्यों
ये भंवर सजीले हैं मितवा
जो हम दोनों को ही ले डूबेंगे
ये मोह का जाल है प्रेम भरा
जिसमें प्रेम के पक्षी फँसते ही हैं
फिर भी ,

ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं

तुम अक्सर इस बात से को कहती हो
मैं इतनी दुहाई प्रेम की क्यों कर देता रहता हूँ
कि प्रेम बिना जीवन सूना -सुना
और बिल्कुल ही आधा -अधूरा है
पर प्रेम जिन्हें हासिल ही नहीं
उनका जीवन भी तो चलता है ,
आधा और सादा ही सही
फिर भी

ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं

मुझे बहुत लिजलिजे लगते हैं
ये प्यार -मोहब्बत के दावे
तुम इस बात पर हैरां रहती हो
कि मैं प्रेम बिना कैसे रहता हूँ
वैसे ही जैसे कितने ही लोग
बिन उम्मीदों और सपनों के जीते रहते हैं
थोड़ा अलग तो है उनका जीवन
फिर भी

ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं
चलो, अब प्रेम की बातें छोड़ो
कहीं तुम भी प्रेम में न रच -पग जाओ
ये जीवन है इतना क्रूर , विषम
हम सब भी तो उससे हारे ही हैं
अब प्रेम हो या फिर लिप्सा हो
जीना तो आखिर ऐसे ही है
अरे तुम भी विचलित सोच रही कुछ ,
क्या कहना -सुनना है इस पर कुछ
फिर भी
ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं है ।
समाप्त

Language: Hindi
245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
बदलने को तो इन आंखों ने मंजर ही बदल डाले
हरवंश हृदय
अलार्म
अलार्म
Dr Parveen Thakur
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
जो भूल गये हैं
जो भूल गये हैं
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
कामवासना
कामवासना
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
Arghyadeep Chakraborty
जिंदगी के रंगों को छू लेने की,
जिंदगी के रंगों को छू लेने की,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"शाम-सवेरे मंदिर जाना, दीप जला शीश झुकाना।
आर.एस. 'प्रीतम'
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
Kshma Urmila
गौरी सुत नंदन
गौरी सुत नंदन
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*यहाँ पर आजकल होती हैं ,बस बाजार की बातें ( हिंदी गजल/गीतिक
*यहाँ पर आजकल होती हैं ,बस बाजार की बातें ( हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
बना एक दिन वैद्य का
बना एक दिन वैद्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
Satyaveer vaishnav
महापुरुषों की सीख
महापुरुषों की सीख
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कागज़ ए जिंदगी
कागज़ ए जिंदगी
Neeraj Agarwal
स्वयं अपने चित्रकार बनो
स्वयं अपने चित्रकार बनो
Ritu Asooja
*** पुद्दुचेरी की सागर लहरें...! ***
*** पुद्दुचेरी की सागर लहरें...! ***
VEDANTA PATEL
Perceive Exams as a festival
Perceive Exams as a festival
Tushar Jagawat
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
खुद पर भी यकीं,हम पर थोड़ा एतबार रख।
पूर्वार्थ
2725.*पूर्णिका*
2725.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रूपमाला (मदन ) छंद विधान सउदाहरण
रूपमाला (मदन ) छंद विधान सउदाहरण
Subhash Singhai
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
"" *माँ के चरणों में स्वर्ग* ""
सुनीलानंद महंत
कर्म
कर्म
Dhirendra Singh
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
नई पीढ़ी पूछेगी, पापा ये धोती क्या होती है…
Anand Kumar
आज वही दिन आया है
आज वही दिन आया है
डिजेन्द्र कुर्रे
जहां हिमालय पर्वत है
जहां हिमालय पर्वत है
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हां मैं पागल हूं दोस्तों
हां मैं पागल हूं दोस्तों
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चाँद
चाँद
Davina Amar Thakral
जैसे
जैसे
Dr.Rashmi Mishra
Loading...