Oct 7, 2016 · 1 min read

मौसम

इन आंखो मे बरसात का मौसम न मिलेगा
तुम लौट के आओगे तो सावन न मिलेगा

रोके से रूकेंगे न ये बहते हुये आंसू
जब तक इन्हे आपका दामन न मिलेगा

भीगी हुईपलको से करेगें इन्तजार
हर वक्त खुला दिल का मकान मिलेगा

है यकीं मुझको तेरे करम पे मालिक
मेरी वफा को यार का इनाम मिलेगा

106 Views
You may also like:
हक़ीक़त
अंजनीत निज्जर
सत्य छिपता नहीं...
मनोज कर्ण
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
महाराणा का शौर्य
Ashutosh Singh
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये
Manisha Manjari
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
एक हम ही है गलत।
Taj Mohammad
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
हंँसना तुम सीखो ।
Buddha Prakash
इस शहर में
Shriyansh Gupta
फूल
Alok Saxena
*श्री हुल्लड़ मुरादाबादी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
The Magical Darkness
Manisha Manjari
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
Loading...