Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2024 · 1 min read

मौसम – दीपक नीलपदम्

कहता हूँ हाथ में थमी कलम ने जो कहा,
कानों में गुनगुना के जब, पवन ने कुछ कहा,
सितारा टिमटिमाया और इशारा कुछ किया,
ऐसा लगा था श्रृष्टि ने हमारा कुछ किया ।
कागज़ की किश्तियाँ बनाके बैठ गए हम,
बारिश उसे पसंद है ये जब पता चला,
सब मौसमों ने राह ली थी उस गली की पर,
बारिश के मौसमों को वो पता नहीं मिला ।
सब मौसमों के नखरे सहन हमने कर लिए,
मौसम उसे पसंद था बस वो नहीं खिला,
बारिश हुई थी एक दिन उस गली में पर,
उससे ही पहले उस गली से मैं निकल लिया ।

(c)@ दीपक कुमार श्रीवास्तव ” नील पदम् “

1 Like · 57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
ਮਿਲੇ ਜਦ ਅਰਸੇ ਬਾਅਦ
Surinder blackpen
अर्ज है पत्नियों से एक निवेदन करूंगा
अर्ज है पत्नियों से एक निवेदन करूंगा
शेखर सिंह
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
यार
यार
अखिलेश 'अखिल'
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
gurudeenverma198
दोहा- छवि
दोहा- छवि
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जहां से चले थे वहीं आ गए !
जहां से चले थे वहीं आ गए !
Kuldeep mishra (KD)
आज होगा नहीं तो कल होगा
आज होगा नहीं तो कल होगा
Shweta Soni
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
"अग्निपथ के राही"
Dr. Kishan tandon kranti
मधुमाश
मधुमाश
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विचार और रस [ दो ]
विचार और रस [ दो ]
कवि रमेशराज
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को समर्पित
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को समर्पित
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
“कवि की कविता”
“कवि की कविता”
DrLakshman Jha Parimal
2821. *पूर्णिका*
2821. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
तेरा-मेरा साथ, जीवनभर का ...
तेरा-मेरा साथ, जीवनभर का ...
Sunil Suman
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
प्रेमदास वसु सुरेखा
बाट तुम्हारी जोहती, कबसे मैं बेचैन।
बाट तुम्हारी जोहती, कबसे मैं बेचैन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
***
*** " आधुनिकता के असर.......! " ***
VEDANTA PATEL
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
“आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना देगी”- गांधी जी
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
दिल जीत लेगी
दिल जीत लेगी
Dr fauzia Naseem shad
सवर्ण और भगवा गोदी न्यूज चैनलों की तरह ही सवर्ण गोदी साहित्य
सवर्ण और भगवा गोदी न्यूज चैनलों की तरह ही सवर्ण गोदी साहित्य
Dr MusafiR BaithA
बांध लो बेशक बेड़ियाँ कई,
बांध लो बेशक बेड़ियाँ कई,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
Dr Tabassum Jahan
Loading...