Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Oct 2022 · 1 min read

मौसम

बदलता है मौसम
देता है सीख
पहचानों अपनी कमियों को ,
निखारो अपने आपको ,
सृष्टि का नियम है
परिवर्तन
कुदरत का अभिन्न अंग है
मौसम
समय से आना
समय से जाना
स्वयं करना अपना कार्य
बदलते रहना समयानुसार
मिले सफलता या असफलता
बेहतर करना बदल – बदल कर
जीना है मौसम के संग
आत्मसात करना है मौसम की सीख को
है जहाँ गुण , वहाँ दोष भी
गुण अपनाना दोष त्यागना
इसे नहीं भूलना है ||

1 Like · 326 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चोर कौन
चोर कौन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं अपने बिस्तर पर
मैं अपने बिस्तर पर
Shweta Soni
दिल में भी
दिल में भी
Dr fauzia Naseem shad
71
71
Aruna Dogra Sharma
"जानलेवा"
Dr. Kishan tandon kranti
"आँगन की तुलसी"
Ekta chitrangini
* मायने हैं *
* मायने हैं *
surenderpal vaidya
माईया दौड़ी आए
माईया दौड़ी आए
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3096.*पूर्णिका*
3096.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोरोना काल
कोरोना काल
Sandeep Pande
नींद आने की
नींद आने की
हिमांशु Kulshrestha
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
*हारा कब हारा नहीं, दिलवाया जब हार (हास्य कुंडलिया)*
*हारा कब हारा नहीं, दिलवाया जब हार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
स्पीड
स्पीड
Paras Nath Jha
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर रंग देखा है।
हर रंग देखा है।
Taj Mohammad
" भुला दिया उस तस्वीर को "
Aarti sirsat
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
Shashi kala vyas
Mai koi kavi nhi hu,
Mai koi kavi nhi hu,
Sakshi Tripathi
*उम्र के पड़ाव पर रिश्तों व समाज की जरूरत*
*उम्र के पड़ाव पर रिश्तों व समाज की जरूरत*
Anil chobisa
आदिपुरुष आ बिरोध
आदिपुरुष आ बिरोध
Acharya Rama Nand Mandal
💐प्रेम कौतुक-189💐
💐प्रेम कौतुक-189💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल/नज़्म - वो ही वैलेंटाइन डे था
ग़ज़ल/नज़्म - वो ही वैलेंटाइन डे था
अनिल कुमार
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
ओसमणी साहू 'ओश'
प्रभु शरण
प्रभु शरण
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
जीव कहे अविनाशी
जीव कहे अविनाशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
Deepak Kumar Srivastava
Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam"
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शायद ऐसा भ्रम हो
शायद ऐसा भ्रम हो
Rohit yadav
Loading...