Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2021 · 1 min read

मौन

आधार छन्द रूपमाला (मापनी युक्त मात्रिक) 24 मात्रा ,
मापनी-गालगागा गालगागा गालगागा गाल ।
ध्रुव शब्द – मौन

2122 2122 2122 21
मौन होता साधना आनंद का आधार ।
आत्मा का सार है ये शांति का आगार।
शक्ति का भंडार इसमें जीत पाया कौन-
मौन की महिमा बहुत है मौन ही श्रृंगार।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

3 Likes · 4 Comments · 708 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
तुम्हारे हमारे एहसासात की है
Dr fauzia Naseem shad
जगह-जगह पुष्प 'कमल' खिला;
जगह-जगह पुष्प 'कमल' खिला;
पंकज कुमार कर्ण
गए हो तुम जब से जाना
गए हो तुम जब से जाना
The_dk_poetry
संसार में
संसार में
Brijpal Singh
विचारिए क्या चाहते है आप?
विचारिए क्या चाहते है आप?
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
2765. *पूर्णिका*
2765. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप कभी 15% मनुवादी सोच को समझ ही नहीं पाए
आप कभी 15% मनुवादी सोच को समझ ही नहीं पाए
शेखर सिंह
मुझे हमेशा लगता था
मुझे हमेशा लगता था
ruby kumari
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
Paras Nath Jha
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
Suryakant Dwivedi
फितरत
फितरत
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
सत्याधार का अवसान
सत्याधार का अवसान
Shyam Sundar Subramanian
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
सत्य कुमार प्रेमी
"मेहमान"
Dr. Kishan tandon kranti
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
Neelam Sharma
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
आईना हो सामने फिर चेहरा छुपाऊं कैसे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
याद आती है
याद आती है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
हरी भरी थी जो शाखें दरख्त की
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
कवि रमेशराज
चीं-चीं करती गौरैया को, फिर से हमें बुलाना है।
चीं-चीं करती गौरैया को, फिर से हमें बुलाना है।
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
नेता सोये चैन से,
नेता सोये चैन से,
sushil sarna
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सज गई अयोध्या
सज गई अयोध्या
Kumud Srivastava
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
*घड़ी दिखाई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कैदी
कैदी
Tarkeshwari 'sudhi'
■
*प्रणय प्रभात*
बीज अंकुरित अवश्य होगा
बीज अंकुरित अवश्य होगा
VINOD CHAUHAN
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
manjula chauhan
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
मिलेगा हमको क्या तुमसे, प्यार अगर हम करें
gurudeenverma198
Loading...