Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Aug 2022 · 1 min read

मौत पर लिखे अशआर

मौत पर तो यक़ीन है लेकिन ।
ज़िंदगी पर तो एतबार आये ।।

ज़िंदगी से निभा के बस चलिए ।
मौत देती निजात थोड़ी है ।।

भूल तू कभी न जाना
ज़िंदगी की चाहत में ।
ज़िंदगी के हिस्से में
मौत भी तो आती है ।।

काश़ वक़्त का कोई
लम्हा कमाल हो ।
न मौत का हो डर
न ज़िंदगी का सवाल हो ।।

मायने मौत के नहीं कुछ भी ।
आज भी ज़िंदगी से डरते हैं ।।

मौत को छू के हमनें जाना है ।
ज़िंदगी तेरी क्या हक़ीक़त है ।।

दर्द-ए-शिद्दत से फिर गुज़रती है ।
ज़िंदगी मौत से जब मिलती है ।।

जानता है वही जो इस दर्द से
गुज़रता है ।
एक ज़िंदगी में कोई कितनी
मौत मरता है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
6 Likes · 304 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
आया खूब निखार
आया खूब निखार
surenderpal vaidya
एहसास
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
Phool gufran
Ajeeb hai ye duniya.......pahle to karona se l ladh rah
Ajeeb hai ye duniya.......pahle to karona se l ladh rah
shabina. Naaz
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
'अशांत' शेखर
काम न आये
काम न आये
Dr fauzia Naseem shad
चल बन्दे.....
चल बन्दे.....
Srishty Bansal
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
कह न पाई सारी रात सोचती रही
कह न पाई सारी रात सोचती रही
Ram Krishan Rastogi
■ सरस्वती वंदना ■
■ सरस्वती वंदना ■
*प्रणय प्रभात*
चलो आज कुछ बात करते है
चलो आज कुछ बात करते है
Rituraj shivem verma
जब भी किसी संस्था में समर्पित व्यक्ति को झूठ और छल के हथियार
जब भी किसी संस्था में समर्पित व्यक्ति को झूठ और छल के हथियार
Sanjay ' शून्य'
3114.*पूर्णिका*
3114.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भारत हमारा
भारत हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
Manisha Manjari
पंचवर्षीय योजनाएँ
पंचवर्षीय योजनाएँ
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा जीवन,मेरी सांसे सारा तोहफा तेरे नाम। मौसम की रंगीन मिज़ाजी,पछुवा पुरवा तेरे नाम। ❤️
मेरा जीवन,मेरी सांसे सारा तोहफा तेरे नाम। मौसम की रंगीन मिज़ाजी,पछुवा पुरवा तेरे नाम। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दूर दूर तक
दूर दूर तक
हिमांशु Kulshrestha
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
*लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे (हिंदी गजल)*
*लोग सारी जिंदगी, बीमारियॉं ढोते रहे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
पापा मैं आप सी नही हो पाऊंगी
पापा मैं आप सी नही हो पाऊंगी
Anjana banda
अब तुझे रोने न दूँगा।
अब तुझे रोने न दूँगा।
Anil Mishra Prahari
प्रभु ने बनवाई रामसेतु माता सीता के खोने पर।
प्रभु ने बनवाई रामसेतु माता सीता के खोने पर।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ईश्वर
ईश्वर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सम्बन्ध वो नहीं जो रिक्तता को भरते हैं, सम्बन्ध वो जो शून्यत
सम्बन्ध वो नहीं जो रिक्तता को भरते हैं, सम्बन्ध वो जो शून्यत
ललकार भारद्वाज
कविता तुम क्या हो?
कविता तुम क्या हो?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
ना मंजिल की कमी होती है और ना जिन्दगी छोटी होती है
ना मंजिल की कमी होती है और ना जिन्दगी छोटी होती है
शेखर सिंह
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Suryakant Dwivedi
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
पूर्वार्थ
Loading...