Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

मौजु

डा . अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

कौन कह्ता है कि उदासियाँ
महज़ उन्हीं के हिस्से होती हैं //
जो किसी के गम्ख्वार होते हैं
तज़ुर्वा कह्ता है के ये कर्म भी //
दुनियाँ में इनकी ह्क्दार होती हैं
फ़िसल जाना, कहीं भी रेत पर //
यारा कभी कभी किसी की
किस्मत होती है, जो सूखे में रपट //
जाते हैं अजी साहिब ये तो
बडी अज़ीब ही बात होती है //
कौन कह्ता है कि उदासियाँ
महज़ उन्हीं के हिस्से होती हैं //
मैं दिखता हूँ जैसा नही बिल्कुल
हूँ मैं वैसा , लगा कर हाँथ जब देखा
किसी ने, तो बोला सब झूट है धोखा
यकी आये भी अब कैसे उनको
मिले जो आज तक भी नहीं हमको
बना कर ख्याल गुर्बत में कहना
यारों ये तो ऐसे लोगों की तासीर होती है
कौन कह्ता है कि उदासियाँ
महज़ उन्हीं के हिस्से होती हैं //

131 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
खिलाड़ी
खिलाड़ी
महेश कुमार (हरियाणवी)
शाम के ढलते
शाम के ढलते
manjula chauhan
" तू "
Dr. Kishan tandon kranti
■सामयिक दोहा■
■सामयिक दोहा■
*Author प्रणय प्रभात*
सफर दर-ए-यार का,दुश्वार था बहुत।
सफर दर-ए-यार का,दुश्वार था बहुत।
पूर्वार्थ
जानता हूं
जानता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
' जो मिलना है वह मिलना है '
' जो मिलना है वह मिलना है '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
*जागा भारत चल पड़ा, स्वाभिमान की ओर (कुंडलिया)*
*जागा भारत चल पड़ा, स्वाभिमान की ओर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
20-चेहरा हर सच बता नहीं देता
Ajay Kumar Vimal
जीवन जितना होता है
जीवन जितना होता है
Dr fauzia Naseem shad
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
Rj Anand Prajapati
अपने
अपने
Adha Deshwal
ले हौसले बुलंद कर्म को पूरा कर,
ले हौसले बुलंद कर्म को पूरा कर,
Anamika Tiwari 'annpurna '
न पूछो हुस्न की तारीफ़ हम से,
न पूछो हुस्न की तारीफ़ हम से,
Vishal babu (vishu)
आँख दिखाना आपका,
आँख दिखाना आपका,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिखता नही किसी को
दिखता नही किसी को
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मित्रता
मित्रता
जगदीश लववंशी
मेरे पास नींद का फूल🌺,
मेरे पास नींद का फूल🌺,
Jitendra kumar
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
हर बार बिखर कर खुद को
हर बार बिखर कर खुद को
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
लड़की
लड़की
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Milo kbhi fursat se,
Milo kbhi fursat se,
Sakshi Tripathi
-शेखर सिंह ✍️
-शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
काम से राम के ओर।
काम से राम के ओर।
Acharya Rama Nand Mandal
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
शहर कितना भी तरक्की कर ले लेकिन संस्कृति व सभ्यता के मामले म
Anand Kumar
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
ओसमणी साहू 'ओश'
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
*मोर पंख* ( 12 of 25 )
Kshma Urmila
प्यार है,पावन भी है ।
प्यार है,पावन भी है ।
Dr. Man Mohan Krishna
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
Mukesh Kumar Sonkar
आज़माइश
आज़माइश
Dr. Seema Varma
Loading...