Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2023 · 1 min read

मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती

मोहब्बत, हर किसी के साथ में नहीं होती
होती होगी, पर मेरे जज्बात में नहीं होती

1 दिन में मोहब्बत, 3- 4 से कर ले
ऐसी मोहब्बत, मेरे खयालात में नहीं होती

एक नजर में उतर जाते हैं, दिल में कुछ लोग
पर यह मोहब्बत, एक मुलाकात में नहीं होती

मैं तो चाहता हूं कर लू, मोहब्बत किसी से
पर यह मोहब्बत, मेरे हालात में नहीं होती

विशाल बाबू
जिला औरैया (उत्तर प्रदेश)
6395966765

2 Likes · 408 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक कथित रंग के चादर में लिपटे लोकतंत्र से जीवंत समाज की कल्प
एक कथित रंग के चादर में लिपटे लोकतंत्र से जीवंत समाज की कल्प
Anil Kumar
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
"शाख का पत्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
ॐ
Prakash Chandra
नौकरी (१)
नौकरी (१)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
Aarti sirsat
2540.पूर्णिका
2540.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ना मुमकिन
ना मुमकिन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राम अवध के
राम अवध के
Sanjay ' शून्य'
प्राण प्रतीस्था..........
प्राण प्रतीस्था..........
Rituraj shivem verma
रेलयात्रा- एक यादगार सफ़र
रेलयात्रा- एक यादगार सफ़र
Mukesh Kumar Sonkar
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
Kirti Aphale
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
ईश्वर है
ईश्वर है
साहिल
*चिंता चिता समान है*
*चिंता चिता समान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
manjula chauhan
सोच बदलनी होगी
सोच बदलनी होगी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
😢विडम्बना😢
😢विडम्बना😢
*प्रणय प्रभात*
मित्रता-दिवस
मित्रता-दिवस
Kanchan Khanna
कई महीने साल गुजर जाते आँखों मे नींद नही होती,
कई महीने साल गुजर जाते आँखों मे नींद नही होती,
Shubham Anand Manmeet
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
हम सब मिलकर, ऐसे यह दिवाली मनाये
gurudeenverma198
संसार का स्वरूप (2)
संसार का स्वरूप (2)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
नारायणी
नारायणी
Dhriti Mishra
*शादी से है जिंदगी, शादी से घर-द्वार (कुंडलिया)*
*शादी से है जिंदगी, शादी से घर-द्वार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुम ही तो हो
तुम ही तो हो
Ashish Kumar
तुमसे इश्क करके हमने
तुमसे इश्क करके हमने
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ये दिल न जाने क्या चाहता है...
ये दिल न जाने क्या चाहता है...
parvez khan
नसीहत
नसीहत
Shivkumar Bilagrami
मन के सवालों का जवाब नही
मन के सवालों का जवाब नही
भरत कुमार सोलंकी
जन्मदिन विशेष : अशोक जयंती
जन्मदिन विशेष : अशोक जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...