Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2017 · 1 min read

मोहब्बत वो घर है !

तुम मिलो तो एक बार, दिल का हाल जताने के लिये,
फ़िर हमें छोड़ किसी और का खयाल दिल मे नहीं आयेगा!
………………….
तुम मेरे हो सब जानते हैं,
में तुम्हारी हुं कोई नहीं मानता !
क्युं ???
………………….
सांस बनकर रहती है तू मेरे संग,
तू है तो आज मैं जिन्दा हुं !
………………….

जिस घर का दरवाजा नहीं होता,
मोहब्बत वो घर है !
– जयति जैन

Language: Hindi
Tag: शेर
329 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपनी कद्र
अपनी कद्र
Paras Nath Jha
शीर्षक – फूलों सा महकना
शीर्षक – फूलों सा महकना
Sonam Puneet Dubey
"रेल चलय छुक-छुक"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल _ मिरी #मैयत पे  रोने मे.....
ग़ज़ल _ मिरी #मैयत पे  रोने मे.....
शायर देव मेहरानियां
♥️♥️दौर ए उल्फत ♥️♥️
♥️♥️दौर ए उल्फत ♥️♥️
umesh mehra
हमारा मन
हमारा मन
surenderpal vaidya
আমি তোমাকে ভালোবাসি
আমি তোমাকে ভালোবাসি
Otteri Selvakumar
अगर कभी किस्मत से किसी रास्ते पर टकराएंगे
अगर कभी किस्मत से किसी रास्ते पर टकराएंगे
शेखर सिंह
"चिराग"
Ekta chitrangini
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
लिखना है मुझे वह सब कुछ
लिखना है मुझे वह सब कुछ
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
सुंदरता की देवी 🙏
सुंदरता की देवी 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हमें प्यार ऐसे कभी तुम जताना
हमें प्यार ऐसे कभी तुम जताना
Dr fauzia Naseem shad
बीता समय अतीत अब,
बीता समय अतीत अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बगावत की आग
बगावत की आग
Shekhar Chandra Mitra
ज्ञान का अर्थ
ज्ञान का अर्थ
ओंकार मिश्र
कोशिशें करके देख लो,शायद
कोशिशें करके देख लो,शायद
Shweta Soni
देशभक्ति
देशभक्ति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
करे ज़ुदा बातें हरपल जो, मानव वो दीवाना है।
आर.एस. 'प्रीतम'
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
स्वप्न लोक के वासी भी जगते- सोते हैं।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
गांधी जी का चौथा बंदर
गांधी जी का चौथा बंदर
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
04/05/2024
04/05/2024
Satyaveer vaishnav
*25_दिसंबर_1982: : प्रथम पुस्तक
*25_दिसंबर_1982: : प्रथम पुस्तक "ट्रस्टीशिप-विचार" का विमोचन
Ravi Prakash
रसीले आम
रसीले आम
नूरफातिमा खातून नूरी
-  मिलकर उससे
- मिलकर उससे
Seema gupta,Alwar
गल्प इन किश एंड मिश
गल्प इन किश एंड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
मनुष्य
मनुष्य
Sanjay ' शून्य'
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
व्यक्ति के शब्द ही उसके सोच को परिलक्षित कर देते है शब्द आपक
Rj Anand Prajapati
#कहमुकरी
#कहमुकरी
Suryakant Dwivedi
किसी की हिफाजत में,
किसी की हिफाजत में,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...