Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Oct 2023 · 1 min read

मोहब्बत मुकम्मल हो ये ज़रूरी तो नहीं…!!!!

महज़ बीते हुए लम्हे हैं वो उनके लिए…
मोहब्बत मुकम्मल हो ये ज़रूरी तो नहीं…
मोहब्बत पूरी तो नहीं…
लेकिन ये एक तरफा मोहब्बत अधूरी तो नहीं…!!!!
-ज्योति खारी

Language: Hindi
3 Likes · 118 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
ruby kumari
चन्द्रयान उड़ा गगन में,
चन्द्रयान उड़ा गगन में,
Satish Srijan
मैं
मैं
Seema gupta,Alwar
कांग्रेस की आत्महत्या
कांग्रेस की आत्महत्या
Sanjay ' शून्य'
"मायने"
Dr. Kishan tandon kranti
जय मां ँँशारदे 🙏
जय मां ँँशारदे 🙏
Neelam Sharma
ज़िदगी के फ़लसफ़े
ज़िदगी के फ़लसफ़े
Shyam Sundar Subramanian
वीज़ा के लिए इंतज़ार
वीज़ा के लिए इंतज़ार
Shekhar Chandra Mitra
यदि आप किसी काम को वक्त देंगे तो वह काम एक दिन आपका वक्त नही
यदि आप किसी काम को वक्त देंगे तो वह काम एक दिन आपका वक्त नही
Rj Anand Prajapati
कौन है वो .....
कौन है वो .....
sushil sarna
💐प्रेम कौतुक-266💐
💐प्रेम कौतुक-266💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
DrLakshman Jha Parimal
रंग ही रंगमंच के किरदार है
रंग ही रंगमंच के किरदार है
Neeraj Agarwal
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
माथे पर दुपट्टा लबों पे मुस्कान रखती है
Keshav kishor Kumar
तारिक़ फ़तह सदा रहे, सच के लंबरदार
तारिक़ फ़तह सदा रहे, सच के लंबरदार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
गणतंत्र के मूल मंत्र की,हम अकसर अनदेखी करते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*वर्ष दो हजार इक्कीस (छोटी कहानी))*
*वर्ष दो हजार इक्कीस (छोटी कहानी))*
Ravi Prakash
*कोई नई ना बात है*
*कोई नई ना बात है*
Dushyant Kumar
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
Buddha Prakash
अहोई अष्टमी का व्रत
अहोई अष्टमी का व्रत
Harminder Kaur
इल्जाम
इल्जाम
Vandna thakur
रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग
रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग
कवि रमेशराज
जो भी कहा है उसने.......
जो भी कहा है उसने.......
कवि दीपक बवेजा
3222.*पूर्णिका*
3222.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नया साल
नया साल
Dr fauzia Naseem shad
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
■ अभी क्या बिगड़ा है जी! बेटी बाप के घर ही है।।😊
■ अभी क्या बिगड़ा है जी! बेटी बाप के घर ही है।।😊
*Author प्रणय प्रभात*
सर के बल चलकर आएँगी, खुशियाँ अपने आप।
सर के बल चलकर आएँगी, खुशियाँ अपने आप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
* जिन्दगी की राह *
* जिन्दगी की राह *
surenderpal vaidya
Loading...