Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2023 · 1 min read

– मोहब्बत का तराना लेकर आया हु –

– मोहब्बत का तराना लेकर आया हु –
मोहब्बत का तराना लेकर आया हु तेरे लिए में आया हु,
तू ही मेरा प्यार, तू ही मेरा दिलदार,
बस यही बताने आया हु,
मेरे दिल की धड़कन हो तुम,
यही जताने आया हु,
मोहब्बत का तराना लेकर आया हु,
एक फसाना लेकर आया हु,
में तो अब तुम्हारा हु तुम्हारा ही रहूंगा,
मोहब्बत में जीऊंगा मोहब्बत में मरूंगा,
इसलिए जब तक है यह जिंदगी ,
मोहब्बत में था मोहब्बत में ही रहूंगा,
मोहब्बत का तराना लेकर आया हु,
✍️✍️ भरत गहलोत
जालोर राजस्थान
संपर्क सूत्र -7742016184 –

Language: Hindi
239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ इधर कुआं, उधर खाई।।
■ इधर कुआं, उधर खाई।।
*प्रणय प्रभात*
उसके बदन को गुलाबों का शजर कह दिया,
उसके बदन को गुलाबों का शजर कह दिया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
Piyush Prashant
दुनियाँ में सबने देखा अपना महान भारत।
दुनियाँ में सबने देखा अपना महान भारत।
सत्य कुमार प्रेमी
रणचंडी बन जाओ तुम
रणचंडी बन जाओ तुम
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
नज़्म
नज़्म
Neelofar Khan
* गूगल वूगल *
* गूगल वूगल *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
स्वयं में ईश्वर को देखना ध्यान है,
Suneel Pushkarna
भगवान भी रंग बदल रहा है
भगवान भी रंग बदल रहा है
VINOD CHAUHAN
हृदय तूलिका
हृदय तूलिका
Kumud Srivastava
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
हर मानव खाली हाथ ही यहाँ आता है,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*अब न वो दर्द ,न वो दिल ही ,न वो दीवाने रहे*
*अब न वो दर्द ,न वो दिल ही ,न वो दीवाने रहे*
sudhir kumar
नियम
नियम
Ajay Mishra
अपनी धरती कितनी सुन्दर
अपनी धरती कितनी सुन्दर
Buddha Prakash
सत्य की खोज
सत्य की खोज
dks.lhp
2 जून की रोटी की खातिर जवानी भर मेहनत करता इंसान फिर बुढ़ापे
2 जून की रोटी की खातिर जवानी भर मेहनत करता इंसान फिर बुढ़ापे
Harminder Kaur
मानसिक तनाव
मानसिक तनाव
Sunil Maheshwari
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Awadhesh Singh
Love is
Love is
Otteri Selvakumar
रामबाण
रामबाण
Pratibha Pandey
अटल बिहारी मालवीय जी (रवि प्रकाश की तीन कुंडलियाँ)
अटल बिहारी मालवीय जी (रवि प्रकाश की तीन कुंडलियाँ)
Ravi Prakash
"हमारे नेता "
DrLakshman Jha Parimal
3215.*पूर्णिका*
3215.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
Dr Archana Gupta
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
पूर्वार्थ
हर एक ईट से उम्मीद लगाई जाती है
हर एक ईट से उम्मीद लगाई जाती है
कवि दीपक बवेजा
*इश्क़ न हो किसी को*
*इश्क़ न हो किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पल
पल
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"झाड़ू"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...