Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

पुलवामा हमले पर शहीदों को नमन चार पंक्तियां

मोहब्बतों के दिन देश के लिए जान वो गवा गए ,
वतन से बढ़कर कुछ नहीं यह दुनिया को बता गए !

मां उनकी पूछती होगी उनकी बेटे हमारे कहां गए,
देश की खातिर जान गवा कर अमरता वो पा गए !!

कवि दीपक सरल

Language: Hindi
3 Likes · 283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
Neelam Sharma
नया  साल  नई  उमंग
नया साल नई उमंग
राजेंद्र तिवारी
कृष्ण सुदामा मित्रता,
कृष्ण सुदामा मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
कवि रमेशराज
मौत का डर
मौत का डर
अनिल "आदर्श"
घर को छोड़कर जब परिंदे उड़ जाते हैं,
घर को छोड़कर जब परिंदे उड़ जाते हैं,
शेखर सिंह
#एक_शेर
#एक_शेर
*प्रणय प्रभात*
💫समय की वेदना😥
💫समय की वेदना😥
SPK Sachin Lodhi
अपनों के अपनेपन का अहसास
अपनों के अपनेपन का अहसास
Harminder Kaur
कोई ऐसा बोलता है की दिल में उतर जाता है
कोई ऐसा बोलता है की दिल में उतर जाता है
कवि दीपक बवेजा
मेरी नज्म, मेरी ग़ज़ल, यह शायरी
मेरी नज्म, मेरी ग़ज़ल, यह शायरी
VINOD CHAUHAN
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
मोहब्बत अधूरी होती है मगर ज़रूरी होती है
Monika Verma
*राधा को लेकर वर्षा में, कान्हा छाते के संग खड़े (राधेश्यामी
*राधा को लेकर वर्षा में, कान्हा छाते के संग खड़े (राधेश्यामी
Ravi Prakash
*** सैर आसमान की....! ***
*** सैर आसमान की....! ***
VEDANTA PATEL
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी सितार हो गयी
जिंदगी सितार हो गयी
Mamta Rani
खुद्दार
खुद्दार
अखिलेश 'अखिल'
कुंंडलिया-छंद:
कुंंडलिया-छंद:
जगदीश शर्मा सहज
2676.*पूर्णिका*
2676.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
परछाई
परछाई
Dr Parveen Thakur
ज़माने   को   समझ   बैठा,  बड़ा   ही  खूबसूरत है,
ज़माने को समझ बैठा, बड़ा ही खूबसूरत है,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पागल।। गीत
पागल।। गीत
Shiva Awasthi
औरत की नजर
औरत की नजर
Annu Gurjar
हमसफर ❤️
हमसफर ❤️
Rituraj shivem verma
🇮🇳🇮🇳*
🇮🇳🇮🇳*"तिरंगा झंडा"* 🇮🇳🇮🇳
Shashi kala vyas
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
Dushyant Kumar Patel
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
Neeraj Agarwal
बहुत बरस गुज़रने के बाद
बहुत बरस गुज़रने के बाद
शिव प्रताप लोधी
"आधी है चन्द्रमा रात आधी "
Pushpraj Anant
ग़ज़ल _ अब दिल गूंजते हैं ।
ग़ज़ल _ अब दिल गूंजते हैं ।
Neelofar Khan
Loading...