Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2023 · 1 min read

मोहता है सबका मन

पुष्पों का अधिपति
माना जाता गुलाब
रूप,गंध और स्वरूप
में इसका नहीं जवाब
बारहों मास खिलता
मोहता है सबका मन
पूजा,आराधन,स्वागत
में उपयोग करें सब जन
औषधीय गुणों से युक्त
है सो आता सबके काम
इससे बने इत्र औ गुलकंद
का पूरे जग में खूब नाम
घिरा रहे कांटों से सदैव
पर लब पे सदा मुस्कान
उसकी ताजगी, प्रखरता
का पूरा जगत है कद्रदान

Language: Hindi
1 Like · 106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"कैसे कह दें"
Dr. Kishan tandon kranti
फेसबुक
फेसबुक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
Rj Anand Prajapati
जीवन में सबसे मूल्यवान अगर मेरे लिए कुछ है तो वह है मेरा आत्
जीवन में सबसे मूल्यवान अगर मेरे लिए कुछ है तो वह है मेरा आत्
Dr Tabassum Jahan
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
shabina. Naaz
जिंदगी है खाली गागर देख लो।
जिंदगी है खाली गागर देख लो।
सत्य कुमार प्रेमी
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
राक्षसी कृत्य - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हाल मियां।
हाल मियां।
Acharya Rama Nand Mandal
तुम गजल मेरी हो
तुम गजल मेरी हो
साहित्य गौरव
सफ़र ज़िंदगी का आसान कीजिए
सफ़र ज़िंदगी का आसान कीजिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सुप्रभात गीत
सुप्रभात गीत
Ravi Ghayal
*सबसे अच्छा काम प्रदर्शन, धरना-जाम लगाना (हास्य गीत)*
*सबसे अच्छा काम प्रदर्शन, धरना-जाम लगाना (हास्य गीत)*
Ravi Prakash
जीवन एक गुलदस्ता ..... (मुक्तक)
जीवन एक गुलदस्ता ..... (मुक्तक)
Kavita Chouhan
तुम अपने धुन पर नाचो
तुम अपने धुन पर नाचो
DrLakshman Jha Parimal
రామయ్య రామయ్య
రామయ్య రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
साहस
साहस
Shyam Sundar Subramanian
आओ नमन करे
आओ नमन करे
Dr. Girish Chandra Agarwal
बड़े लोग क्रेडिट देते है
बड़े लोग क्रेडिट देते है
Amit Pandey
पल का मलाल
पल का मलाल
Punam Pande
धर्म बनाम धर्मान्ध
धर्म बनाम धर्मान्ध
Ramswaroop Dinkar
शासन अपनी दुर्बलताएँ सदा छिपाता।
शासन अपनी दुर्बलताएँ सदा छिपाता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
2869.*पूर्णिका*
2869.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
संयुक्त परिवार
संयुक्त परिवार
विजय कुमार अग्रवाल
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
बुदबुदा कर तो देखो
बुदबुदा कर तो देखो
Mahender Singh Manu
दान
दान
Mamta Rani
■ ग़ज़ल / बात है साहब...!!
■ ग़ज़ल / बात है साहब...!!
*Author प्रणय प्रभात*
कागज़ ए जिंदगी
कागज़ ए जिंदगी
Neeraj Agarwal
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
राह भटके हुए राही को, सही राह, राहगीर ही बता सकता है, राही न
जय लगन कुमार हैप्पी
Loading...