Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2017 · 1 min read

मोरे घनश्याम

मोरे घनश्याम

दरश दिखा के
प्यास जगा के
कुछ क्षण मोरे
संग बीता के शाम !

मुझ विरहन को
तू छोड़ अकेला
कौन देस गया
हे मोरे घनशाम !

मैं पल-पल जलूँ
ना जिऊँ ना मरूँ
ढड़े नैनों से नीर
मन को ना आराम !

कजरा संग अँखियां
बिंदिया संग लिलरा
वेणी संग मोर जूड़ा
निक लागे नाहिं राम !

तुझ संग सब निक लागे
सब हौं अब तो अभागे
काहे का करूँ मो सिंगार
कौन नाहिं इनके दाम !

==============
दिनेश एल० “जैहिंद”
06. 02. 2017

Language: Hindi
237 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भटके वन चौदह बरस, त्यागे सिर का ताज
भटके वन चौदह बरस, त्यागे सिर का ताज
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यारा  तुम  बिन गुजारा नही
यारा तुम बिन गुजारा नही
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
★साथ तेरा★
★साथ तेरा★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*कोई नई ना बात है*
*कोई नई ना बात है*
Dushyant Kumar
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr Shweta sood
मैं उन लोगों से उम्मीद भी नहीं रखता हूं जो केवल मतलब के लिए
मैं उन लोगों से उम्मीद भी नहीं रखता हूं जो केवल मतलब के लिए
Ranjeet kumar patre
जीवन
जीवन
Mangilal 713
जब -जब धड़कन को मिली,
जब -जब धड़कन को मिली,
sushil sarna
"सपना"
Dr. Kishan tandon kranti
इस ठग को क्या नाम दें
इस ठग को क्या नाम दें
gurudeenverma198
सीमा प्रहरी
सीमा प्रहरी
लक्ष्मी सिंह
*सरस्वती जी दीजिए, छंद और रस-ज्ञान (आठ दोहे)*
*सरस्वती जी दीजिए, छंद और रस-ज्ञान (आठ दोहे)*
Ravi Prakash
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
Dr. Man Mohan Krishna
जरूरत से ज्यादा
जरूरत से ज्यादा
Ragini Kumari
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
अनिल कुमार
प्रीति की राह पर बढ़ चले जो कदम।
प्रीति की राह पर बढ़ चले जो कदम।
surenderpal vaidya
काश ये
काश ये
हिमांशु Kulshrestha
होलिका दहन कथा
होलिका दहन कथा
विजय कुमार अग्रवाल
कहानी -
कहानी - "सच्चा भक्त"
Dr Tabassum Jahan
मंजिल
मंजिल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अपार ज्ञान का समंदर है
अपार ज्ञान का समंदर है "शंकर"
Praveen Sain
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम
Anand Kumar
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
Monika Verma
I would never force anyone to choose me
I would never force anyone to choose me
पूर्वार्थ
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
Shweta Soni
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
लापता सिर्फ़ लेडीज नहीं, हम मर्द भी रहे हैं। हम भी खो गए हैं
लापता सिर्फ़ लेडीज नहीं, हम मर्द भी रहे हैं। हम भी खो गए हैं
Rituraj shivem verma
जीवन तब विराम
जीवन तब विराम
Dr fauzia Naseem shad
Loading...