Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2022 · 1 min read

* मोरे कान्हा *

डा . अरुण कुमार शास्त्री
एक अबोध बालक _अरुण अतृप्त

* मोरे कान्हा *

धन्य धन्य बलहारी जाऊँ
गिरीधर तुमको सीस नवाऊँ
बिन तेरे सिमरन के काँनाहा
बिन पानी की मीन कहाऊँ
धन्य धन्य बलहारी जाऊँ ||
लख चौरासी में भटका हुँ
अपने कर्मो के कारण मैं
आस नहीं दीखे इस अबोध को
कैसे इस से मुक्ति पाऊँ
धन्य धन्य बलहारी जाऊँ ||
आरती कान्हा जो मैं गाऊँ
सौ सौ वा में जुगत भिडाऊँ
तन्त्र मन्त्र चालाकी रच कर
अपने जाल में खुद फंसता जाऊँ
धन्य धन्य बलहारी जाऊँ ||
तेरे न्याय पर करूं भरोसा
फिर अपनी में सोच भिडाऊँ
लाज़ राखियों हे गिरि धारी
इस विचार से निकल न पाऊँ
विचलित मन आहत शरीर से
हे ईश्वर ध्यान तिहारा कर न पाऊँ
धन्य धन्य बलहारी जाऊँ ||

Language: Hindi
166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
अपनी बुरी आदतों पर विजय पाने की खुशी किसी युद्ध में विजय पान
Paras Nath Jha
Bhagwan sabki sunte hai...
Bhagwan sabki sunte hai...
Vandana maurya
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
चाय कलियुग का वह अमृत है जिसके साथ बड़ी बड़ी चर्चाएं होकर बड
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
नहीं जा सकता....
नहीं जा सकता....
Srishty Bansal
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
ग़ज़ल/नज़्म - इश्क के रणक्षेत्र में बस उतरे वो ही वीर
अनिल कुमार
भक्तिकाल
भक्तिकाल
Sanjay ' शून्य'
एक मन
एक मन
Dr.Priya Soni Khare
कोई शाम आयेगी मेरे हिस्से
कोई शाम आयेगी मेरे हिस्से
Amit Pandey
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
भगतसिंह का आख़िरी खत
भगतसिंह का आख़िरी खत
Shekhar Chandra Mitra
*जिस सभा में जाति पलती, उस सभा को छोड़ दो (मुक्तक)*
*जिस सभा में जाति पलती, उस सभा को छोड़ दो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बचपन याद किसे ना आती ?
बचपन याद किसे ना आती ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*** शुक्रगुजार हूँ ***
*** शुक्रगुजार हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम्हारी निगाहें
तुम्हारी निगाहें
Er. Sanjay Shrivastava
3075.*पूर्णिका*
3075.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पंचवर्षीय योजनाएँ
पंचवर्षीय योजनाएँ
Dr. Kishan tandon kranti
एक और द्रौपदी (अंतःकरण झकझोरती कहानी)
एक और द्रौपदी (अंतःकरण झकझोरती कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ज़िंदादिली
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
POWER
POWER
Satbir Singh Sidhu
💐अज्ञात के प्रति-83💐
💐अज्ञात के प्रति-83💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* पराया मत समझ लेना *
* पराया मत समझ लेना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
A heart-broken Soul.
A heart-broken Soul.
Manisha Manjari
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
#एक_ही_तमन्ना
#एक_ही_तमन्ना
*Author प्रणय प्रभात*
गीत रीते वादों का .....
गीत रीते वादों का .....
sushil sarna
व्हाट्सएप युग का प्रेम
व्हाट्सएप युग का प्रेम
Shaily
Loading...