Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

मोबाईल नहीं

दन्नू घर पर बैठा- बैठा,

बस बैठा ही रहता था ।

बैठे बैठे सारा दिन,

मोबाइल चलाता था ।

इक दिन दादाजी ने सोचा ,

दन्नू को समझाता हूँ।

इसको आज जगत लगाकर,

बाहर घुमाकर लाता हूँ,

दादा बोले दन्नू बेटा,

तुमको कुछ बतलाना है ,

एक खिलौने वाला आया,

चलो खिलौना लाना है ,

सुना खिलौने का जब नाम,

दन्नू ने छोडा सब काम,

चट से वो तैयार हुआ,

दादाजी के साथ गया ,

हाथ पैर के चलने से ,

तन मे हलचल होती थी,

हवा भी छूकर जाती थी,

उसका मन हरषाती थी,

शुद्ध हवा कमाल लगी ,

ज्योही उसके गाल लगी ,

मन भी इतना खुश था कि,

आज सडक कमाल लगी ,

देख रहे थे ,दादाजी,

समझ रहे थे दादाजी,

उसे दिलाया एक खिलौना ,

जो सुर मे गाता था गाना ,

दादाजी ने बोला दन्नू,

कल को भी हम आयेंगे,

मै तो बिलकुल हू तैयार,

आज की सैर थी मजेदार,

आज समझ मे आया है ,

कुदरत मे जो समाया है ,

वो मोबाइल मे गंवाया है ,

अब तो रोज सैर करूंगा ,

मोबाइल दास नही बनूगा।

4 Likes · 1 Comment · 331 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Harish Chandra Pande
View all
You may also like:
** राह में **
** राह में **
surenderpal vaidya
ख्वाहिशों के कारवां में
ख्वाहिशों के कारवां में
Satish Srijan
पंडित मदनमोहन मालवीय
पंडित मदनमोहन मालवीय
नूरफातिमा खातून नूरी
इतनी महंगी हो गई है रिश्तो की चुंबक
इतनी महंगी हो गई है रिश्तो की चुंबक
कवि दीपक बवेजा
किरदार
किरदार
Surinder blackpen
झूम मस्ती में झूम
झूम मस्ती में झूम
gurudeenverma198
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
मातृभूमि तुझ्रे प्रणाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दोहे- शक्ति
दोहे- शक्ति
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
हाथ पताका, अंबर छू लूँ।
संजय कुमार संजू
Adhere kone ko roshan karke
Adhere kone ko roshan karke
Sakshi Tripathi
"हालात"
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत उम्मीदें थीं अपनी, मेरा कोई साथ दे देगा !
बहुत उम्मीदें थीं अपनी, मेरा कोई साथ दे देगा !
DrLakshman Jha Parimal
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
Ranjeet kumar patre
रोजी रोटी के क्या दाने
रोजी रोटी के क्या दाने
AJAY AMITABH SUMAN
मानसिक विकलांगता
मानसिक विकलांगता
Dr fauzia Naseem shad
बुझ गयी
बुझ गयी
sushil sarna
*मन की पीड़ा मत कहो, जाकर हर घर-द्वार (कुंडलिया)*
*मन की पीड़ा मत कहो, जाकर हर घर-द्वार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पत्रकार
पत्रकार
Kanchan Khanna
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
घड़ी घड़ी में घड़ी न देखें, करें कर्म से अपने प्यार।
घड़ी घड़ी में घड़ी न देखें, करें कर्म से अपने प्यार।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कसौटी
कसौटी
Astuti Kumari
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
प्रेमदास वसु सुरेखा
"नवसंवत्सर सबको शुभ हो..!"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चलते जाना
चलते जाना
अनिल कुमार निश्छल
जिंदगी जब जब हमें
जिंदगी जब जब हमें
ruby kumari
छुट्टी बनी कठिन
छुट्टी बनी कठिन
Sandeep Pande
3. कुपमंडक
3. कुपमंडक
Rajeev Dutta
गर जानना चाहते हो
गर जानना चाहते हो
SATPAL CHAUHAN
पुष्प सम तुम मुस्कुराओ तो जीवन है ।
पुष्प सम तुम मुस्कुराओ तो जीवन है ।
Neelam Sharma
Loading...