Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2016 · 3 min read

मोबाइल बुरा नहीं होता

लघु कथा
                  “मोबाईल बुरा नहीं होता”

मैं अपने सोसाइटी का सबसे कम पढ़नेवाला लड़का था इसलिए,क्योंकि मैं अपने सोसाइटी में लोगो के नजर में पढता कम और मोबाइल ज्यादा चलाता था ,और ये सच भी था कि मैं मोबाइल ज्यादा चलाता था।सभी लोग हमे कुछ अलग ही नजर से देखता था,पर मैं अपने आप में मनगन था क्योंकि कुछ नई टॉपिक पढ़नी होती थी तो मैं नेट के जरिए पढ़ लिया करता था साथ ही दैनिक समाचार भी पढ़ लिया करता था।रात को मैं 2-3 बजे तक नहीं सोता था कभी कोई रात को मोबाइल चलाते देख लेता अँधेरी रात को अहले दिन घर से सिकायत सुनने को मिलता था और धमकी भी की तुम नहीं सुधरोगे ,और नहीं सुधरोगे तो कम से कम हमलोगो को इस तरह बदनाम मत करो,घर के सारे परिवार बग़ल वाले सोनू का उदाहरण देते कि देखो कितना नेक लड़का है और कितना अच्छा पढाई करता है।पर मैं कुछ ऐसा गलत नहीं करता था जिससे हमे हानि हो पढाई से लेकर शारीरिक स्वास्थ्य तक,मैं भी पढता था पर कुछ ही मार्क्स उससे कम आता था वो भी लिटरेचर में क्योंकि मैं अधिक रट नहीं पाता था।अचानक एक रात को जब मैं छत पर था तो मुझे कुछ संदिग्ध नकाब पोशी लोग दिखा ।जो सोसाइटी में डकैती के मकसद से आया था।मैं छत पर छुप गया और उसकी एक तस्वीर ले ली और फ़ौरन ही पोलिस को फोन किया ।पुलिस वाले को आने में तो समय लगेगा ही इसी दरमियान मैंने उसे फ़ोन लगाया जिसके घर में वो लोग घुस रहा था पर उसकी नींद ऐसी थी की वो मेरा फ़ोन नहीं उठाया।फिर मैंने अपने घर में फोन लगाया यहाँ भी पापा नहीं फोन उठाये,फिर एक परोस के चाचा को फोन लगाया तो उसने फ़ोन उठाया तभी मुझे और उन्हें एक गोली की आवाज सुनाई दी।पर वो समझ नहीं सके तब मैंने उन्हें सारी बात बताई ।चाचा अपने परिवार को जगाया और शोर मचाने लगा सारे डकैत शोर सुनकर ऊपर वाले कमरे से नीचे आता तभी पोलिस भी आ पहुँची और दोनों तरफ से फायरिंग होने लगा और जब डकैत की गोलियाँ ख़त्म हो गई तो पोलिस वालो ने उन्हें घेर कर सारे को पकड़ लिया।और सारे सोसाइटी के लोग एक साथ इक्कठा हो गए।मैं भी पहुँचा वहाँ तो देखा कि एक दादा जी की मौत हो चुकी थी डकैत की गोली से ।पोलिस वालो ने मुझे बुलाया और बोला बेटा तुम्हारे कारण ही आज मैं इसे पकड़ सका हूँ अगर समय पर फोन नहीं किया होता तो न जाने किन किन को ये बेवकूफ मार डालते।आज तो इन दादा जी की भी मौत नहीं होती अगर समय पर ये लोग मेंरा फोन उठाया होता खैर ,सारे लोग एकटक मेरी ओर देखता रहा और कहने लगा आज राजू नहीं होता तो न जाने कितने लोग मारे जाते।और सबके सब मुझे कंधे पर उठा लिया।मेरे कहने पर उन्होंने मुझे नीचे उतारा।और मैंने उन सबो से कहा कि मैंने कुछ भी नहीं किया आज ये मोबाइल नहीं होता तो मैं पोलिस वालो को ख़त और आपलोगो को ख़त नहीं लिखता इसे पड़ने के लिए।ये सिर्फ इस मोबाइल का कमाल है।और ये मोबाइल इतना बुरा भी नहीं जितना आप लोग समझते है।बस इसका सही उपयोग करना जानिये दूर मत भागिए नहीं तो जमाने में पीछे रह जायेंगे।कुछ दिन बाद मुझे पुरष्कार से सम्मानित किया गया और मेरे पिताजी भी मुझे और मेरे सच्चाई को समझने लगे सोसाइटी का क्या बताऊ पुरे जिला का लोग मुझे जानने लगे।

लालजी ठाकुर

Language: Hindi
473 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाय.
हाय.
Vishal babu (vishu)
किसी भी रिश्ते में प्रेम और सम्मान है तो लड़ाई हो के भी वो ....
किसी भी रिश्ते में प्रेम और सम्मान है तो लड़ाई हो के भी वो ....
seema sharma
आहत हूॅ
आहत हूॅ
Dinesh Kumar Gangwar
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
Pakhi Jain
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*बहुत सौभाग्यशाली कोई, पुस्तक खोल पढ़ता है (मुक्तक)*
*बहुत सौभाग्यशाली कोई, पुस्तक खोल पढ़ता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
इश्क की रूह
इश्क की रूह
आर एस आघात
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
जगदीश लववंशी
उल्फत के हर वर्क पर,
उल्फत के हर वर्क पर,
sushil sarna
प्रयास
प्रयास
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शालीनता की गणित
शालीनता की गणित
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
रणचंडी बन जाओ तुम
रणचंडी बन जाओ तुम
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
10 Habits of Mentally Strong People
10 Habits of Mentally Strong People
पूर्वार्थ
टन टन
टन टन
SHAMA PARVEEN
माँ सरस्वती वंदना
माँ सरस्वती वंदना
Karuna Goswami
बादलों को आज आने दीजिए।
बादलों को आज आने दीजिए।
surenderpal vaidya
लौट कर न आएगा
लौट कर न आएगा
Dr fauzia Naseem shad
2593.पूर्णिका
2593.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तन्हाई
तन्हाई
Sidhartha Mishra
अंधेरी रात में भी एक तारा टिमटिमाया है
अंधेरी रात में भी एक तारा टिमटिमाया है
VINOD CHAUHAN
"बच्चे "
Slok maurya "umang"
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
The_dk_poetry
"बेकसूर"
Dr. Kishan tandon kranti
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
*आ गये हम दर तुम्हारे दिल चुराने के लिए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
Keshav kishor Kumar
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
हमारे रक्षक
हमारे रक्षक
करन ''केसरा''
परफेक्ट बनने के लिए सबसे पहले खुद में झांकना पड़ता है, स्वयं
परफेक्ट बनने के लिए सबसे पहले खुद में झांकना पड़ता है, स्वयं
Seema gupta,Alwar
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
बस एक कदम दूर थे
बस एक कदम दूर थे
'अशांत' शेखर
Loading...