Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2018 · 1 min read

मोदी के मन की बात –आर के रस्तोगी

तुम इंगलिश पढ़ी लिखी हो
मैं तो हिंदी भी भूल चुका हूँ
तुम पढ़ कर भाषण देतो हो
मैं इस कला को भूल चुका प्रिये

तुम बुलेट ट्रेन जापान की
मै छुक छुक रेल भारत की
तुम्हारी स्पीड कोंई सीमा नहीं
मैं रुक रुक कर चलता हूँ प्रिये

तुम मायवती सी विश्व सुन्दरी
मै गुजराती बुढ्ढा खलनायक हूँ
कर्नाटक के गठबंधन पर तो
मेरा तेरा बैर हो गया प्रिये

तुम कांग्रेस के कारण हो
मै चाय वाले के कारण हूँ
मैं मंदिर का कर्ण क्रूर कंदन हूँ
तुम मस्जिद की मधुर अजान प्रिये

तुम त्याग की असली मूर्ति
मैं तो सत्ता का लालची हूँ
तुम नाम का PM बनाती हो
तुम सरकार चलाती हो प्रिये

तुम लालू जैसी पशु प्रेमी
निर्दोष टूजी सीजी बोफोर्स
तुम चिदम्बरम सी ईमानदार
मुझसा न कोई भ्रष्टाचारी प्रिये

तुम मासूम पत्थरबाज सी हो
मै कितना क्रूर सीमा सैनिक हूँ
तुम स्विस बैंक का स्ट्रांगरूम हो
मै नोट बंदी का दुश्मन प्रिये

तुम पीड़ित निरीह रोहिग्या हो
मैं कश्मीरी पंडित आंतकवादी हूँ
मै रिफूजी के काबिल हूँ देश में
तुम सारे भारत के हकदार प्रिये

तुम भारत की गौरव जिन्ना हो
मै भगत सिंह आंतकवादी हूँ
भारत की आजादी के तमगे पर
पूरा अधिकार है अब तुझे

तुम वेटिवन का प्रेम पत्र हो
तुम ही देवबंद का फतवा हो
मैं खमोशी संत महंतो की
और मिथ्या गीता सार प्रिये

आर के रस्तोगी

Language: Hindi
216 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
खेल जगत का सूर्य
खेल जगत का सूर्य
आकाश महेशपुरी
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*** मैं प्यासा हूँ ***
*** मैं प्यासा हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
"बेहतर"
Dr. Kishan tandon kranti
23/65.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/65.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ ग़ज़ल (वीक एंड स्पेशल) -
■ ग़ज़ल (वीक एंड स्पेशल) -
*प्रणय प्रभात*
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
कर्म रूपी मूल में श्रम रूपी जल व दान रूपी खाद डालने से जीवन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कैसे हमसे प्यार करोगे
कैसे हमसे प्यार करोगे
KAVI BHOLE PRASAD NEMA CHANCHAL
हार नहीं होती
हार नहीं होती
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के व्यवस्था-विरोध के गीत
कवि रमेशराज
Alahda tu bhi nhi mujhse,
Alahda tu bhi nhi mujhse,
Sakshi Tripathi
माँ की कहानी बेटी की ज़ुबानी
माँ की कहानी बेटी की ज़ुबानी
Rekha Drolia
तन पर तन के रंग का,
तन पर तन के रंग का,
sushil sarna
ज़ख़्म ही देकर जाते हो।
ज़ख़्म ही देकर जाते हो।
Taj Mohammad
“ जीवन साथी”
“ जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
भ्रष्टाचार ने बदल डाला
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जब मैं मंदिर गया,
जब मैं मंदिर गया,
नेताम आर सी
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
पूर्वार्थ
योग क्या है.?
योग क्या है.?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
¡¡¡●टीस●¡¡¡
¡¡¡●टीस●¡¡¡
Dr Manju Saini
गर्मी की छुट्टियों का होमवर्क
गर्मी की छुट्टियों का होमवर्क
कुमार
एक घर मे दो लोग रहते है
एक घर मे दो लोग रहते है
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ज़िंदगी ने कहां
ज़िंदगी ने कहां
Dr fauzia Naseem shad
*अपने करते द्वेष हैं, अपने भीतरघात (कुंडलिया)*
*अपने करते द्वेष हैं, अपने भीतरघात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
నేటి ప్రపంచం
నేటి ప్రపంచం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
gurudeenverma198
रिश्ते बचाएं
रिश्ते बचाएं
Sonam Puneet Dubey
दिल चेहरा आईना
दिल चेहरा आईना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
Ranjeet kumar patre
Loading...