Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2016 · 1 min read

मै वो वेश्या हूँ/मंदीपसाई

तन की मेरी बोली लगाई जाती,
गैरो के बिस्तर पर सजाई जाती।
में वो वेश्या हूँ……

चंद पैसे दे कर खरीदा जाता,
बेहरमी से मुझे नोचा जाता।
मै वो वेश्या हूँ……..

आते पास मेरे समाज के देकेदार,
करते वो भी मेरा बलत्कार।
मै वो वेश्या हूँ……..

देख रही आया नही आज कोई,
जलेगा कैसे चुला में सोच कर बहुत रोई।
मै वो वेश्या हूँ……..

आये दिन में अपना बलत्कार करवाती,
तुम्हारी बेटियो को बलत्कार से मै बचाती।
मै वो वेश्या हूँ……..

मंदीपसाई

Language: Hindi
319 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाइकु .....चाय
हाइकु .....चाय
sushil sarna
// कामयाबी के चार सूत्र //
// कामयाबी के चार सूत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कोशिश
कोशिश
Dr fauzia Naseem shad
पयसी
पयसी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुसलसल ईमान रख
मुसलसल ईमान रख
Bodhisatva kastooriya
आप तो आप ही है
आप तो आप ही है
gurudeenverma198
अन्न देवता
अन्न देवता
Dr. Girish Chandra Agarwal
"अखाड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
Harminder Kaur
शब्द
शब्द
ओंकार मिश्र
तेरी यादों की खुशबू
तेरी यादों की खुशबू
Ram Krishan Rastogi
लक्ष्मी-पूजन का अर्थ है- विकारों से मुक्ति
लक्ष्मी-पूजन का अर्थ है- विकारों से मुक्ति
कवि रमेशराज
साल भर पहले
साल भर पहले
ruby kumari
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
Badalo ki chirti hui meri khahish
Badalo ki chirti hui meri khahish
Sakshi Tripathi
■ बसंत पंचमी
■ बसंत पंचमी
*Author प्रणय प्रभात*
2371.पूर्णिका
2371.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
घे वेध भविष्याचा ,
घे वेध भविष्याचा ,
Mr.Aksharjeet
नेम प्रेम का कर ले बंधु
नेम प्रेम का कर ले बंधु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*मारा हमने मूक कब, पशु जो होता मौन (कुंडलिया)*
*मारा हमने मूक कब, पशु जो होता मौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शिशिर का स्पर्श / (ठंड का नवगीत)
शिशिर का स्पर्श / (ठंड का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
धर्मराज
धर्मराज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
हर कोई जिन्दगी में अब्बल होने की होड़ में भाग रहा है
हर कोई जिन्दगी में अब्बल होने की होड़ में भाग रहा है
कवि दीपक बवेजा
एक अच्छी जिंदगी जीने के लिए पढ़ाई के सारे कोर्स करने से अच्छा
एक अच्छी जिंदगी जीने के लिए पढ़ाई के सारे कोर्स करने से अच्छा
Dr. Man Mohan Krishna
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भोले शंकर ।
भोले शंकर ।
Anil Mishra Prahari
हट जा भाल से रेखा
हट जा भाल से रेखा
Suryakant Dwivedi
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
धर्म की खिचड़ी
धर्म की खिचड़ी
विनोद सिल्ला
Loading...