Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 27, 2017 · 1 min read

मैं हूँ ज़िंदा तुझे एहसास कराऊं कैसे

धङकनें मैं तेरे कानों को सुनाऊं कैसे
बंदिशें तोङ तेरे सामने आऊं कैसे

मुझको बेजान समझ दूर करे क्यों तन से
मैं हूँ ज़िंदा तुझे एहसास कराऊं कैसे

बाग़बाँ अनखिला हूँ फूल तेरे आँगन का
बिन खिले मैं तेरा गुलशन ये सजाऊं कैसे

सींच तालीम के जल से किरण हुनर की दिखा
बात इतनी सी भला तुझको सिखाऊं कैसे

जिस्म ‘मासूम’ का देखे करे क्यों शर्मिंदा
रूह छलनी तेरी आँखों को दिखाऊं कैसे

मोनिका ‘मासूम’

198 Views
You may also like:
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit Singh
बंदर मामा गए ससुराल
Manu Vashistha
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं
Krishan Singh
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD KUMAR CHAUHAN
हम भारत के लोग
Mahender Singh Hans
मैं भारत हूँ
Dr. Sunita Singh
राम राज्य
Shriyansh Gupta
लाल टोपी
मनोज कर्ण
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
बाबा भैरण के जनैत छी ?
श्रीहर्ष आचार्य
🙏मॉं कालरात्रि🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
ईश प्रार्थना
Saraswati Bajpai
समय..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता भगवान का अवतार होता है।
Taj Mohammad
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
मां
Umender kumar
अप्सरा
Nafa writer
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...