Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं

मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
अपने ही सवालों से बस मौन हूँ मैं

बचपन से जवानी खयालों में गुजरी
हर घड़ी देखो बस सवालों मैं गुजरी
डूबा रहा दिल ख्वाबों के साये में
ढूंढता रहा खुद को खुद मौन हूँ मैं
अपने ही सवालों से बस मौन हूँ मैं

जवानी थी बहारों और उमंगों भरी
तितली व फूलों जैसी थी रंगो भरी
जवानी गुजरी सपनो के साये में
ढूंढता रहा खुद को खुद मौन हूँ मैं
अपने ही सवालों से बस मौन हूँ मैं

गृहस्थी में कमाते रहे फुर्सत कहाँ है
उलझी हुई पहेली यह जीवन यहाँ है
रह रहे सब जद्दोजहद के साये में
ढूंढता रहा खुद को खुद मौन हूँ मैं
अपने ही सवालों से बस मौन हूँ मैं

“V9द” तेरी जिंदगी कोई कयास है
भ्रम का है खेल बस झूठी आश है
जी रहे बस सभी मौत के साये में
ढूंढता रहा खुद को खुद मौन हूँ मैं
अपने ही सवालों से बस मौन हूँ मैं

स्वरचित
V9द चौहान

1 Like · 27 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
Feelings of love
Feelings of love
Bidyadhar Mantry
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
दूसरों के कर्तव्यों का बोध कराने
Dr.Rashmi Mishra
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr. Priya Gupta
संत गोस्वामी तुलसीदास
संत गोस्वामी तुलसीदास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कबूतर
कबूतर
Vedha Singh
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
पैसों के छाँव तले रोता है न्याय यहां (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
सजदे में झुकते तो हैं सर आज भी, पर मन्नतें मांगीं नहीं जातीं।
Manisha Manjari
कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
Shweta Soni
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
बोल
बोल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ आंसू माने भेदिया।
■ आंसू माने भेदिया।
*प्रणय प्रभात*
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
Kanchan Khanna
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
अपना ही ख़ैर करने लगती है जिन्दगी;
manjula chauhan
2877.*पूर्णिका*
2877.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*सावन आया गा उठे, मौसम मेघ फुहार (कुंडलिया)*
*सावन आया गा उठे, मौसम मेघ फुहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
"जरा सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
#शीर्षक:- इजाजत नहीं
#शीर्षक:- इजाजत नहीं
Pratibha Pandey
पाला जाता घरों में, वफादार है श्वान।
पाला जाता घरों में, वफादार है श्वान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वो मेरे प्रेम में कमियाँ गिनते रहे
वो मेरे प्रेम में कमियाँ गिनते रहे
Neeraj Mishra " नीर "
जीवन की विफलता
जीवन की विफलता
Dr fauzia Naseem shad
चुप
चुप
Dr.Priya Soni Khare
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
*वरद हस्त सिर पर धरो*..सरस्वती वंदना
*वरद हस्त सिर पर धरो*..सरस्वती वंदना
Poonam Matia
"कलम की अभिलाषा"
Yogendra Chaturwedi
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
सूत जी, पुराणों के व्याख्यान कर्ता ।।
सूत जी, पुराणों के व्याख्यान कर्ता ।।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...