Sep 13, 2016 · 1 min read

मैं सालिब हूँ तू आशूतोष क्यों है

चलो माना मुहब्बत भी नहीं है
नज़र लर्ज़ां ज़बां खामोश क्यों है

न आयेगा कोई मिलने मगर अब
मगर ये दिल हमा तनगोश क्यों है

कभी आवाज़ होती थी खुदा की
ज़बाने हल्क़ अब ख़ामोश क्यो है

मैं सच्चा था मुकदमा हार जाता
वो झूठा था मगर रोपोश क्यों है

अगर मज़हब मुहब्बत है हमारा
मैं सालिब हूँ तू आशूतोष क्यों है

1 Comment · 103 Views
You may also like:
बदलते रिश्ते
पंकज कुमार "कर्ण"
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H.
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*ओ भोलेनाथ जी* "अरदास"
Shashi kala vyas
चंदा मामा
Dr. Kishan Karigar
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
पिता
Saraswati Bajpai
अपने पापा की मैं हूं।
Taj Mohammad
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आप कौन से मुसलमान है भाई ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
इशारो ही इशारो से...😊👌
N.ksahu0007@writer
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
मेरे हाथो में सदा... तेरा हाथ हो..
Dr. Alpa H.
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वो
Shyam Sundar Subramanian
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
प्रेम
Dr.sima
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं
Krishan Singh
Loading...