Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Sep 2016 · 1 min read

मैं सालिब हूँ तू आशूतोष क्यों है

चलो माना मुहब्बत भी नहीं है
नज़र लर्ज़ां ज़बां खामोश क्यों है

न आयेगा कोई मिलने मगर अब
मगर ये दिल हमा तनगोश क्यों है

कभी आवाज़ होती थी खुदा की
ज़बाने हल्क़ अब ख़ामोश क्यो है

मैं सच्चा था मुकदमा हार जाता
वो झूठा था मगर रोपोश क्यों है

अगर मज़हब मुहब्बत है हमारा
मैं सालिब हूँ तू आशूतोष क्यों है

1 Comment · 257 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्रिकेट
क्रिकेट
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
भक्ति की राह
भक्ति की राह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2599.पूर्णिका
2599.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हाथ की उंगली😭
हाथ की उंगली😭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
प्रेमदास वसु सुरेखा
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
manjula chauhan
आत्मबल
आत्मबल
Punam Pande
💐अज्ञात के प्रति-101💐
💐अज्ञात के प्रति-101💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
Vivek Mishra
पिता की व्यथा
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
तारों के मोती अम्बर में।
तारों के मोती अम्बर में।
Anil Mishra Prahari
प्रेम.......................................................
प्रेम.......................................................
Swara Kumari arya
गाल बजाना ठीक नही है
गाल बजाना ठीक नही है
Vijay kumar Pandey
ईश्वर की आँखों में
ईश्वर की आँखों में
Dr. Kishan tandon kranti
वीर सैनिक (बाल कविता)
वीर सैनिक (बाल कविता)
Ravi Prakash
कुदरत का प्यारा सा तोहफा ये सारी दुनियां अपनी है।
कुदरत का प्यारा सा तोहफा ये सारी दुनियां अपनी है।
सत्य कुमार प्रेमी
Not a Choice, But a Struggle
Not a Choice, But a Struggle
पूर्वार्थ
भगवा है पहचान हमारी
भगवा है पहचान हमारी
Dr. Pratibha Mahi
// दोहा पहेली //
// दोहा पहेली //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गुरु तेगबहादुर की शहादत का साक्षी है शीशगंज गुरुद्वारा
गुरु तेगबहादुर की शहादत का साक्षी है शीशगंज गुरुद्वारा
कवि रमेशराज
दोहा
दोहा
sushil sarna
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
कवि दीपक बवेजा
■ अनुभूत सच
■ अनुभूत सच
*Author प्रणय प्रभात*
मुझे याद आता है मेरा गांव
मुझे याद आता है मेरा गांव
Adarsh Awasthi
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
हम तूफ़ानों से खेलेंगे, चट्टानों से टकराएँगे।
आर.एस. 'प्रीतम'
श्री गणेश वंदना:
श्री गणेश वंदना:
जगदीश शर्मा सहज
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
जुड़वा भाई ( शिक्षाप्रद कहानी )
AMRESH KUMAR VERMA
माँ वाणी की वन्दना
माँ वाणी की वन्दना
Prakash Chandra
मेरा अभिमान
मेरा अभिमान
Aman Sinha
स्कूल जाना है
स्कूल जाना है
SHAMA PARVEEN
Loading...