Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

मैं विवेक शून्य हूँ

मैं विवेक शून्य हूँ
या मैं हूँ असमंजस में?
या बुद्धिहीन सोच मेरी।
जहाँ तक मैं जानता हूँ
जहाँ तक मैं सोच रहा।
मानस इस धरा पर सदियों से
इन निह्त्त्थे जीवों को नोच रहा।
मात सीता की, चाहत के लिए
रामचंद्र जी, ने भी मृग मारा था।
सुना, कारण लीला थी प्रभु की
दानव मारीच को तारा था।

मैं असमंजस में हूँ ।
जब न्याय- अन्याय ,पाप -पुण्य
एक-दूजे के विपरित है
श्रेणी कौन सी दूँ, मारिच बध को।
क्या लाभ मिला सीता – राम को।

इस जग में, मेरी समझ से
इन, निहत्त्थे जीवों को
मात्र खेलने का माना साधन है।
हम जैसी ही इनमे भी तो जान है।
भरकर अन्नानास में विस्फोटक
क्यों केरल में डाला है
कारण बेचारी अभागी हथिनी
मानस शौक से ही मारी है।

अपने प्रदेश में देवी देवता
हर कदम में बलि लेते है
मैं असमंजस में हूं, क्यों?
वो राजा, वो रक्षक
जिसे मानते हम सब है
विवेकहीन में हो जाता हूं
तर्कहीन हो जाता हूं
मैं विवेक शून्य हूं।
या मैं असमंजस में।।

जंहा तक मैं समझ रहा हूं
जंहा तक में समझ सका हूं
इन निहत्थे जीवों को
मात्र स्वार्थ का माना साधन है।
मैं विवेक शून्य हूं!
या मैं असमंजस में??

✍️ संजय कुमार संजू
शिमला, हिमाचल प्रदेश

2 Likes · 1 Comment · 452 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजय कुमार संजू
View all
You may also like:
दिनांक:- २४/५/२०२३
दिनांक:- २४/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*इक क़ता*,,
*इक क़ता*,,
Neelofar Khan
इंसानियत
इंसानियत
Sunil Maheshwari
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
सहधर्मिणी
सहधर्मिणी
Bodhisatva kastooriya
निरीह गौरया
निरीह गौरया
Dr.Pratibha Prakash
*रावण आया सिया चुराने (कुछ चौपाइयॉं)*
*रावण आया सिया चुराने (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
//एक सवाल//
//एक सवाल//
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
तू ना मिली तो हमने
तू ना मिली तो हमने
VINOD CHAUHAN
"लाजिमी"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ह्रदय
ह्रदय
Monika Verma
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
हिमांशु Kulshrestha
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
Vedha Singh
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
चलो कहीं दूर जाएँ हम, यहाँ हमें जी नहीं लगता !
DrLakshman Jha Parimal
#शर्मनाक
#शर्मनाक
*प्रणय प्रभात*
वक्त बड़ा बेरहम होता है साहब अपने साथ इंसान से जूड़ी हर यादो
वक्त बड़ा बेरहम होता है साहब अपने साथ इंसान से जूड़ी हर यादो
Ranjeet kumar patre
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
पूर्वार्थ
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
फूलों की तरह मैं मिली थी और आपने,,
फूलों की तरह मैं मिली थी और आपने,,
Shweta Soni
हो गए दूर क्यों, अब हमसे तुम
हो गए दूर क्यों, अब हमसे तुम
gurudeenverma198
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
* मुस्कुराते हुए *
* मुस्कुराते हुए *
surenderpal vaidya
हर इंसान लगाता दांव
हर इंसान लगाता दांव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फूल मोंगरा
फूल मोंगरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
Vinit kumar
हम हिंदुओ का ही हदय
हम हिंदुओ का ही हदय
ओनिका सेतिया 'अनु '
ऐ मोहब्बत तेरा कर्ज़दार हूं मैं।
ऐ मोहब्बत तेरा कर्ज़दार हूं मैं।
Phool gufran
23/35.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/35.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अपना कोई वजूद हो, तो बताना मेरे दोस्त।
अपना कोई वजूद हो, तो बताना मेरे दोस्त।
Sanjay ' शून्य'
Loading...