Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2017 · 2 min read

मैं बेटी

मैं बेटी
दो घरों की शान।
फिरभी अपनी नहीं पहचान।
माँ ,तुमने कितनी कोशिश की,
मैं इस दुनिया में ना आऊँ।
न जाने कितनी साजिश की,
मैं कली,न फूल बन खिलखिलाऊँ ।
मैं तब भी आई।
बनकर तेरी अनचाही संतान।
हर रोज़ तरसती रही,
सबसे पाने को थोडा सा मान।
तूने सारा लाड़ भैया पर लुटाया।
उसको दी सारी खुशियाँ।
मेरा मन फिर भी मुस्कुराया।
उसके खिलौने से छुप छुप कर खेली मैं।
रातों को चुपके से आँखों को भिंगो ली मैं।
बड़ी तमन्ना थी कुछ बनने की,
एक नया इतिहास रचने की।
तुमको मेरा साथ न भाया।
कच्ची उम्र में ही कर दिया पराया।
नया घर,नए लोग,नए रिश्ते मिले।
पर नफ़रत सबसे एकजैसे ही मिले।
मुझको रोज़ दहेज़ के ताने मिले।
मुझे सताने के कई उनको बहाने मिले।
मैं तो तेरी ही परछाई थी।
मेरी कोख में भी कली ही आई थी।
रोक रहे थे सब उसको खिलने से।
दूर न हो जाऊँ पहले ही मिलने से।
मैं लाना चाहती थी उसको इस संसार में।
बतलाती की तू है लाखो,हज़ार में।
मैं कर लेती उसको जी भर के प्यार।
लूटा देती अपने बचपन का भी दुलार।
पर शायद ये मुमकिन न होगा।
अच्छा है,जीना तेरे बिन न होगा।
चलो एक साथ दम तोड़ते हैं।
इस बेरहम दुनिया को एकसाथ छोड़ते हैं।
दहेज़ की भूख,तेरे आने की खबर ने
मुझे अग्नि में झोंक दिया है।
तेरे ही पिता ने तुझे मेरी गोद
में खेलने से रोक दिया है।
तिल तिल जलने से बेहतर
एक बार जल जाना अच्छा।
हर ख्वाहिश मारने से बेहतर
एक बार मर जाना अच्छा।
अब जाती हूँ इस दुनिया से…..
अगर भगवान मिला तो बस…..
एक दुआ मांगूंगी
अगले जनम मुझे बेटी न बनाना।
दहेज़ की आग में मुझे न जलाना।
एक और बेटी की माँ मुझको न बनाना।
अलविदा…………..

1055 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"मेरी दुनिया"
Dr Meenu Poonia
Ram Mandir
Ram Mandir
Sanjay ' शून्य'
किसी रोज मिलना बेमतलब
किसी रोज मिलना बेमतलब
Amit Pathak
हो जाती है साँझ
हो जाती है साँझ
sushil sarna
लगाये तुमको हम यह भोग,कुंवर वीर तेजाजी
लगाये तुमको हम यह भोग,कुंवर वीर तेजाजी
gurudeenverma198
आंसू
आंसू
नूरफातिमा खातून नूरी
फितरत
फितरत
Akshay patel
बेइंतहा सब्र बक्शा है
बेइंतहा सब्र बक्शा है
Dheerja Sharma
फ़ैसले का वक़्त
फ़ैसले का वक़्त
Shekhar Chandra Mitra
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
Johnny Ahmed 'क़ैस'
आई होली
आई होली
Kavita Chouhan
विरह गीत
विरह गीत
नाथ सोनांचली
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
शब्द
शब्द
लक्ष्मी सिंह
उतर गया चढ़ा था जो आसमाँ में रंग
उतर गया चढ़ा था जो आसमाँ में रंग
'अशांत' शेखर
मां, तेरी कृपा का आकांक्षी।
मां, तेरी कृपा का आकांक्षी।
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
दोगला चेहरा
दोगला चेहरा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"धन्य प्रीत की रीत.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"शाम-सवेरे मंदिर जाना, दीप जला शीश झुकाना।
आर.एस. 'प्रीतम'
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मन का डर
मन का डर
Aman Sinha
💐प्रेम कौतुक-357💐
💐प्रेम कौतुक-357💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भगवान परशुराम जी, हैं छठवें अवतार
भगवान परशुराम जी, हैं छठवें अवतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बंदिशें
बंदिशें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मंजिल तक का संघर्ष
मंजिल तक का संघर्ष
Praveen Sain
अनन्त तक चलना होगा...!!!!
अनन्त तक चलना होगा...!!!!
Jyoti Khari
2594.पूर्णिका
2594.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*......कब तक..... **
*......कब तक..... **
Naushaba Suriya
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Ram Krishan Rastogi
तुम्हारी बेवफाई देखकर अच्छा लगा
तुम्हारी बेवफाई देखकर अच्छा लगा
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Loading...