Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 23, 2017 · 1 min read

“मैं बेटी घर की आंगन जैसी हूँ”

मैं बेटी घर की आंगन जैसी हूँ
मैं बाबुल की न्यारी
मैया की दुलारी
भैया की राजदुलारी
बहना की सखी
बेटी हूँ ….

जैसे बिन आंगन के
घर घर नहीं केवल कमरा होता
वैसे जिस घर में बेटी नहीं होती
वह परिवार कभी भी पूरा नहीं होता
इसलिए मेरी शादी के बाद
आंगन सूना हो जाता…

भले ही शादी के बाद
मैं पराई हो जाती
पर मायका का
खुला दरवाजे व खिलाडियाँ
हर वक्त मेरा रास्ते देखते
वैसे भैया व बहना मुझसे
मिलने को तरसते
मैया और बाबुल मुझसे मिलने का
खुली आँखों से सपना संजोते
दिल से मुझे खुश रहने का
सदा आशिष देते. …
कुमारी अर्चना
पूर्णियाँ बिहार
23 / 1 / 17
मौलिक और अप्रकाशित रचना

1 Like · 1 Comment · 183 Views
You may also like:
कितना मुश्किल है पिता होना
Ashish Kumar
अपनी नींदें
Dr fauzia Naseem shad
सरकारी निजीकरण।
Taj Mohammad
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H. Amin
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️एक आफ़ताब ही काफी है✍️
"अशांत" शेखर
✍️मेरा जिक्र हुवा✍️
"अशांत" शेखर
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दर्द।
Taj Mohammad
तेरे होने का अहसास
Dr. Alpa H. Amin
पुराने खत
sangeeta beniwal
मिलन की तड़प
Dr. Alpa H. Amin
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
" हसीन जुल्फें "
DESH RAJ
माई री ,माई री( भाग १)
अनामिका सिंह
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
समझना आपको है
Dr fauzia Naseem shad
Gazal
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️सिर्फ…✍️
"अशांत" शेखर
हम पर्यावरण को भूल रहे हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
लूं राम या रहीम का नाम
Mahesh Ojha
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
अनामिका सिंह
ईद
Khushboo Khatoon
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
Loading...