Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2017 · 1 min read

“मैं बेटी घर की आंगन जैसी हूँ”

मैं बेटी घर की आंगन जैसी हूँ
मैं बाबुल की न्यारी
मैया की दुलारी
भैया की राजदुलारी
बहना की सखी
बेटी हूँ ….

जैसे बिन आंगन के
घर घर नहीं केवल कमरा होता
वैसे जिस घर में बेटी नहीं होती
वह परिवार कभी भी पूरा नहीं होता
इसलिए मेरी शादी के बाद
आंगन सूना हो जाता…

भले ही शादी के बाद
मैं पराई हो जाती
पर मायका का
खुला दरवाजे व खिलाडियाँ
हर वक्त मेरा रास्ते देखते
वैसे भैया व बहना मुझसे
मिलने को तरसते
मैया और बाबुल मुझसे मिलने का
खुली आँखों से सपना संजोते
दिल से मुझे खुश रहने का
सदा आशिष देते. …
कुमारी अर्चना
पूर्णियाँ बिहार
23 / 1 / 17
मौलिक और अप्रकाशित रचना

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 321 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Drapetomania
Drapetomania
Vedha Singh
कागज मेरा ,कलम मेरी और हर्फ़ तेरा हो
कागज मेरा ,कलम मेरी और हर्फ़ तेरा हो
Shweta Soni
मित्रता तुम्हारी हमें ,
मित्रता तुम्हारी हमें ,
Yogendra Chaturwedi
मुकद्दर
मुकद्दर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
* जगो उमंग में *
* जगो उमंग में *
surenderpal vaidya
*आई बारिश हो गई,धरती अब खुशहाल(कुंडलिया)*
*आई बारिश हो गई,धरती अब खुशहाल(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
पहले उसकी आदत लगाते हो,
पहले उसकी आदत लगाते हो,
Raazzz Kumar (Reyansh)
प्रणय 4
प्रणय 4
Ankita Patel
व्यंग्य क्षणिकाएं
व्यंग्य क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
हिरनी जैसी जब चले ,
हिरनी जैसी जब चले ,
sushil sarna
दगा बाज़ आसूं
दगा बाज़ आसूं
Surya Barman
हम छि मिथिला के बासी,
हम छि मिथिला के बासी,
Ram Babu Mandal
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
जय श्रीराम हो-जय श्रीराम हो।
manjula chauhan
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
Taj Mohammad
तथागत प्रीत तुम्हारी है
तथागत प्रीत तुम्हारी है
Buddha Prakash
"रंग का मोल"
Dr. Kishan tandon kranti
" from 2024 will be the quietest era ever for me. I just wan
पूर्वार्थ
2807. *पूर्णिका*
2807. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वसंततिलका छन्द
वसंततिलका छन्द
Neelam Sharma
■ कल तक-
■ कल तक-
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्तों को कभी दौलत की
रिश्तों को कभी दौलत की
rajeev ranjan
अक्सर कोई तारा जमी पर टूटकर
अक्सर कोई तारा जमी पर टूटकर
'अशांत' शेखर
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
"आग्रह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मेरी बेटी
मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
योग क्या है.?
योग क्या है.?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आंबेडकर न होते तो...
आंबेडकर न होते तो...
Shekhar Chandra Mitra
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
देख भाई, ये जिंदगी भी एक न एक दिन हमारा इम्तिहान लेती है ,
Dr. Man Mohan Krishna
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
Loading...