Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

मैं नारी हूं

“मैं नारी हूं”
पुरुषों के समाज में अबला कहलाने वाली बेचारी हूं,
सब कुछ सहकर चुपचाप आंसू बहाने वाली मैं नारी हूं।
पुरुष को जन्म देने से मरण तक देती हूं साथ पुरुष का,
उस वक्त भी होती जरूरी प्रदर्शन होता जब पौरुष का।
समाज में व्याप्त भेदभाव अनीति को सहना भी है,
न कोई आवाज उठाना और न कुछ कहना भी है।
समय बदलता युग बदलते पर न बदलता हाल,
त्रेता द्वापर से कलियुग आया हाल हुआ बेहाल।
सीता हो या द्रौपति सब हालातों के आगे थे हारे,
पुरुष प्रधान इस समाज में फिरती हैं मारे मारे।
हमारे त्याग और समर्पण का नहीं है जग में कोई मोल,
अत्याचार अन्याय होता हम पर और मिलते कड़वे बोल।
मां बेटी और बहु के रूप में आज भी संघर्ष करती नारियां,
पुरुष प्रधान समाज में कोई नहीं सुनता इनकी सिसकारियां।
अब वक्त आ गया इनके लिए आवाज उठाना होगा,
सामाजिक समानता व अधिकारों का हक दिलाना होगा।।
✍️ मुकेश कुमार सोनकर, रायपुर छत्तीसगढ़

1 Like · 54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विश्व पर्यावरण दिवस
विश्व पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
Sukoon
बुद्ध रूप ने मोह लिया संसार।
बुद्ध रूप ने मोह लिया संसार।
Buddha Prakash
रस का सम्बन्ध विचार से
रस का सम्बन्ध विचार से
कवि रमेशराज
"शेष पृष्ठा
Paramita Sarangi
*भारत माता को किया, किसने लहूलुहान (कुंडलिया)*
*भारत माता को किया, किसने लहूलुहान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2364.पूर्णिका
2364.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अंकुर
अंकुर
manisha
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
*चाल*
*चाल*
Harminder Kaur
वक़्त के वो निशाँ है
वक़्त के वो निशाँ है
Atul "Krishn"
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
Subhash Singhai
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
महिला दिवस कुछ व्यंग्य-कुछ बिंब
Suryakant Dwivedi
खुद के करीब
खुद के करीब
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आलेख - प्रेम क्या है?
आलेख - प्रेम क्या है?
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
ख़त्म हुईं सब दावतें, मस्ती यारो संग
ख़त्म हुईं सब दावतें, मस्ती यारो संग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आलता महावर
आलता महावर
Pakhi Jain
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
कुछ ही लोगों का जन्म दुनियां को संवारने के लिए होता है। अधिक
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
কিছু ভালবাসার গল্প অমর হয়ে রয়
কিছু ভালবাসার গল্প অমর হয়ে রয়
Sakhawat Jisan
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
Damini Narayan Singh
"तुम नूतन इतिहास लिखो "
DrLakshman Jha Parimal
टॉम एंड जेरी
टॉम एंड जेरी
Vedha Singh
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"मतदान"
Dr. Kishan tandon kranti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रिशतों का उचित मुल्य 🌹🌹❤️🙏❤️
रिशतों का उचित मुल्य 🌹🌹❤️🙏❤️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैं तो अंहकार आँव
मैं तो अंहकार आँव
Lakhan Yadav
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
Aarti sirsat
"शिक्षक तो बोलेगा”
पंकज कुमार कर्ण
* खूबसूरत इस धरा को *
* खूबसूरत इस धरा को *
surenderpal vaidya
Loading...