Sep 3, 2016 · 1 min read

मैं नहीं शब्द शिल्पी

मैं नहीं कोई शब्द शिल्पी
जो शब्दों की ग्रन्थमाला गूथू
लिख साहित्य की विविध विधाए
गधकार कहानीकार मुक्ततकार
और अनेकानेक कार कहलाऊ

मैं नहीं कोई शब्द शिल्पी
जो देख निकलते भास्कर को
ऊषा सुन्दरी का पनघट से जल
भर लेकर आना नजर आए
या उसके पायल की झंकार
झन झन करती सी नजर आए

मैं नही कोई शब्द शिल्पी
जो देख निकलते चन्दा को
सूत कातती वृद्धा नजर आए
या आलिंगन आतुर महबूब की
प्रिया महबूबा नजर आए

मैं नहीं कोई शब्द शिल्पी
जो देख स्नाता नायिका को
नख शिख सौन्दर्य की बारीकियाँ
या देह संगुठन उन्नत माथ या
नटी कटि सी नजर आए

मैं नही कोई शब्द शिल्पी
मुझे तो बेबस माँ की वो कातर
नर्म आँखें नजर आती है
जो अपाहिज बच्चे को ले
लगाती डॉक्टर के चक्कर लगाती

मैं नहीं कोई शब्द शिल्पी
मुझे बेबस किसान की वो लाचारी
गरीबी दीनता नजर आती है
जो रख सब कुछ गिरवी
बस कर लेता है आत्म हत्या

मैं नहीं कोई शब्द शिल्पी
मुझे तो बस वे मुश्किलें
मुसीबतेंनजर आती है जो
दो वक्त की रोटी को लेकर
और सिर ऊपर छत की है

मैं नही कोई शब्द शिल्पी
मन तो मेरा भी करता है
लिख नित प्रेम पातियां प्रेम
का संसार बसा लूँ या
लिख गीत गीतकार बन जाऊँ

73 Likes · 405 Views
You may also like:
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
हमारी प्यारी मां
Shriyansh Gupta
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चिट्ठी का जमाना और अध्यापक
Mahender Singh Hans
बेजुबान
Dhirendra Panchal
चिन्ता और चिता में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
एक दौर था हम भी आशिक हुआ करते थे
Krishan Singh
"पिता और शौर्य"
Lohit Tamta
ये चिड़िया
Anamika Singh
खेत
Buddha Prakash
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
पापा
Anamika Singh
एक दिन यह समझ आना है।
Taj Mohammad
*पुस्तक का नाम : अँजुरी भर गीत* (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Little sister
Buddha Prakash
कलयुग का आरम्भ है।
Taj Mohammad
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
एकाकीपन
Rekha Drolia
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
दादी मां बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
इस शहर में
Shriyansh Gupta
【19】 मधुमक्खी
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...