Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 21, 2016 · 1 min read

मैं थका था पर मुझे चलना पडा़।

इश्क में क्या क्या नहीं सहना पड़ा।।
मैं थका था पर मुझे चलना पड़ा।।

उस सितमगर से हुआ जब प्यार तो।
हर घड़ी मुझको यहाँ जलना पड़ा।।

की बहुत खुद की हिफाजत गौर से।
उम्र को इक रोज पर ढलना पड़ा।।

कुछ घमंडी आ गये जब बज्म में।
छोड़ कर महफिल मुझे जाना पड़ा।।

चाहता था मैं उसी को रात दिन।
दूर उससे ही मगर रहना पड़ा।।

था बहुत मुश्किल यहाँ ईमान से।
जिंदगी का गीत पर गाना पड़ा।।

दोस्तों के हाथ में देखा नमक।
तो मुझे हर घाव को ढकना पड़ा।।

जब सभी को शौक रिश्वत का लगा।
मुफलिसों को तब यहाँ लड़ना पड़ा।।

लेखनी बेची नहीं मैनें यहाँ।
खुद मुझे लेकिन यहाँ बिकना पड़ा।।

कुछ यहाँ हालात ही ऐसे हुये।
“दीप” को जलना पड़ा बुझना पड़ा।।

प्रदीप कुमार “प्रदीप”

231 Views
You may also like:
फ़नकार समझते हैं Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
कुरान की आयत।
Taj Mohammad
कुछ कर गुज़र।
Taj Mohammad
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
हर लम्हा।
Taj Mohammad
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
न्याय का पथ
AMRESH KUMAR VERMA
✍️लॉकडाउन✍️
"अशांत" शेखर
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
मैं वफ़ा हूँ अपने वादे पर
gurudeenverma198
शून्य से अनन्त
D.k Math
मेरी बेटी
Anamika Singh
✍️लोग जमसे गये है।✍️
"अशांत" शेखर
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
आज तिलिस्म टूट गया....
Saraswati Bajpai
तब मुझसे मत करना कोई सवाल तुम
gurudeenverma198
अपना लो मुझे अभी...
Dr. Alpa H. Amin
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
सावन ही जाने
शेख़ जाफ़र खान
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
पिता की याद
Meenakshi Nagar
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
.✍️साथीला तूच हवे✍️
"अशांत" शेखर
Loading...