Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

मैं थका था पर मुझे चलना पडा़।

इश्क में क्या क्या नहीं सहना पड़ा।।
मैं थका था पर मुझे चलना पड़ा।।

उस सितमगर से हुआ जब प्यार तो।
हर घड़ी मुझको यहाँ जलना पड़ा।।

की बहुत खुद की हिफाजत गौर से।
उम्र को इक रोज पर ढलना पड़ा।।

कुछ घमंडी आ गये जब बज्म में।
छोड़ कर महफिल मुझे जाना पड़ा।।

चाहता था मैं उसी को रात दिन।
दूर उससे ही मगर रहना पड़ा।।

था बहुत मुश्किल यहाँ ईमान से।
जिंदगी का गीत पर गाना पड़ा।।

दोस्तों के हाथ में देखा नमक।
तो मुझे हर घाव को ढकना पड़ा।।

जब सभी को शौक रिश्वत का लगा।
मुफलिसों को तब यहाँ लड़ना पड़ा।।

लेखनी बेची नहीं मैनें यहाँ।
खुद मुझे लेकिन यहाँ बिकना पड़ा।।

कुछ यहाँ हालात ही ऐसे हुये।
“दीप” को जलना पड़ा बुझना पड़ा।।

प्रदीप कुमार “प्रदीप”

361 Views
You may also like:
हिंदी जन-जन की भाषा
Dr. Sunita Singh
दिल की दवा चाहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ मुक्तक / दिल हार गया
*Author प्रणय प्रभात*
संस्कार जगाएँ
Anamika Singh
कण कण तिरंगा हो, जनगण तिरंगा हो
डी. के. निवातिया
तेरा साथ मुझको गवारा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन की अफरा तफरी
AADYA PRODUCTION
मेरे देश का तिरंगा
VINOD KUMAR CHAUHAN
"कुछ अधूरे सपने"
MSW Sunil SainiCENA
गिरवी वर्तमान
Saraswati Bajpai
लेके काँवड़ दौड़ने
Jatashankar Prajapati
बात क्या है जो नयन बहने लगे
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
लक्ष्मीबाई - सी बनो (कुंडलिया )
Ravi Prakash
उदास प्रेमी
Shekhar Chandra Mitra
हर एहसास मुस्कुराता है
Dr fauzia Naseem shad
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
# अंतर्द्वंद ......
Chinta netam " मन "
खुशी और गम
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
राती घाटी
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
मत्तगयंद सवैया ( राखी )
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
औरत औकात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खून की श्येयाही
Anurag pandey
भक्ति रस
लक्ष्मी सिंह
★भोगेषु प्रियतायां सति एतस्य कारणं रस:★
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खुदा मेरी सुनता नहीं है।
Taj Mohammad
✍️दिशाभूल✍️
'अशांत' शेखर
तुम्हारी छवि
Rashmi Sanjay
दो पल का जिंदगानी...
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...