Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2016 · 1 min read

मैं तो सबसे छोटा ठहरा !

*********************
मैं तो सबसे छोटा ठहरा !
*********************
*
सबको खूब खसोटा ठहरा,
सेठ तभी तो मोटा ठहरा ।
*
रहा रवैया जिसका ढुल-मुल,
बेपेंदा वह लोटा ठहरा ।
*
कविता की बारीकी मतलब,
कवि ने खुद को घोटा ठहरा ।
*
कपड़े उनके उन्हें मुबारक,
मेरा सिर्फ लंगोटा ठहरा ।
*
औरों की क्या बात करूँ मैं,
अपना सिक्का खोटा ठहरा ।
*
मेरी राय कहाँ ली जाती ?
मैं तो सबसे छोटा ठहरा ।
*
शहर तुम्हारा पढ़ा-लिखा, पर-
विद्वानों का टोटा ठहरा ।
*************************
हरीश लोहुमी, लखनऊ
*************************

319 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पानी का संकट
पानी का संकट
Seema gupta,Alwar
" पाती जो है प्रीत की "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
इंद्रवती
इंद्रवती
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
दीदी
दीदी
Madhavi Srivastava
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
पेंशन
पेंशन
Sanjay ' शून्य'
हरियाली के बीच मन है मगन
हरियाली के बीच मन है मगन
Krishna Manshi
रमेशराज की एक तेवरी
रमेशराज की एक तेवरी
कवि रमेशराज
शौक करने की उम्र मे
शौक करने की उम्र मे
KAJAL NAGAR
फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन
फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन फ़ेलुन
sushil yadav
■सामान संहिता■
■सामान संहिता■
*प्रणय प्रभात*
आगाज़-ए-नववर्ष
आगाज़-ए-नववर्ष
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
धमकियाँ देना काम है उनका,
धमकियाँ देना काम है उनका,
Dr. Man Mohan Krishna
व्यवहारिक नहीं अब दुनियां व्यावसायिक हो गई है,सम्बंध उनसे ही
व्यवहारिक नहीं अब दुनियां व्यावसायिक हो गई है,सम्बंध उनसे ही
पूर्वार्थ
*जिनको चॉंदी का मिला, चम्मच श्रेष्ठ महान (कुंडलिया)*
*जिनको चॉंदी का मिला, चम्मच श्रेष्ठ महान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2383.पूर्णिका
2383.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी क्या है ?
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
लौट चलें🙏🙏
लौट चलें🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"जो खुद कमजोर होते हैं"
Ajit Kumar "Karn"
पीड़ाएं सही जाती हैं..
पीड़ाएं सही जाती हैं..
Priya Maithil
वैशाख का महीना
वैशाख का महीना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*लम्हे* ( 24 of 25)
*लम्हे* ( 24 of 25)
Kshma Urmila
There are few moments,
There are few moments,
Sakshi Tripathi
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
भारत मां की लाज रखो तुम देश के सर का ताज बनो
कवि दीपक बवेजा
??????...
??????...
शेखर सिंह
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
Poonam Matia
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
कुछ बीते हुए पल -बीते हुए लोग जब कुछ बीती बातें
Atul "Krishn"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कहने को बाकी क्या रह गया
कहने को बाकी क्या रह गया
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
आशा का दीप
आशा का दीप
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
Loading...